जब वंशवाद पर राहुल गाँधी से पूछा गया सवाल तो राहुल गाँधी ने दिया ये जवाब, प्रधानमन्त्री पद को लेकर कहा ये .

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वर्त्तमान में वायनाड से संसद पहुँचने वाले राहुल गाँधी ने वंशवाद पर खुलकर अपनी बात रखी है. शिकागो विश्विद्यालय के प्रोफेसर दीपेश चक्रवर्ती और वहां के अन्य छात्रों से डिजिटल संवाद के दौरान राहुल गाँधी से जब वंशवाद पर सवाल पूछा गया तब राहुल  गाँधी ने भी खुलकर जवाब दिया. आपको बता दें कि भाजपा समेत अन्य विपक्षी दल राहुल  गाँधी पर वंशवाद का आरोप लगाते आये हैं. राहुल गाँधी ने कई मौकों पर वंशवाद पर अपनी राय दी है. राहुल गाँधी ने इस डिजिटल सेशन के दौरान भी अपनी बात रखी.

फाइल फोटो

जब राहुल गाँधी से पूछा गया कि भारतीय राजनीति में गाँधी परिवार सबसे शक्तिशाली परिवार रहा है और काफी लम्बे अरसे तक गाँधी परिवार के हीं सदस्य देश के प्रधानमन्त्री रहें हैं ऐसे में खुद उसी परिवार से आने वाले राहुल गाँधी वंशवाद पर क्या सोचते हैं. सवाल के जवाब में राहुल गाँधी ने कहा कि उनके परिवार से अंतिम बार कोई प्रधानमन्त्री लगभग 30 – 35 साल पहले बना था. राहुल गाँधी ने जोर देते हुए कहा कि पिछली कांग्रेस सरकार में भी कोई भी गाँधी परिवार का सदस्य मंत्री नहीं बना था. ऐसे में जब राहुल  गाँधी लोकतंत्र में किसी चीज को लेकर आवाज उठाता है तो ये नहीं कहा जा सकता कि राहुल गाँधी राजीव गाँधी का बेटा है इसलिए वो आवाज उठा रहा है. ऐसा कहना गलत होगा. राहुल गाँधी ने कहा कि भारतीय लोकतंत्र में महात्मा गाँधी, नेहरु, अम्बेडकर जैसे लोगों के द्वारा दिए गए सिधान्त बहुत बहुमूल्य है और इन्हें समझने की जरुरत है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top
error: Please do hard work...