गेम में 40 हजार हारने के बाद, I am Sorry मां, कहकर फंदे पर झूला 13 साल का बच्चा।

news

आज के समय में गेम की लत बच्चो पर बहुत अधिक देखी जा रही है। कई गेम ऐसे है जो बच्चो के भविष्य से खिलवाड़ कर रहे है। गेम के कारण बच्चे पढ़ाई लिखाई पर ज्यादा ध्यान नहीं दे पाते है। आज माता पिता से चोरी छिपे या उनके सामने घंटों बच्चे मोबाइल पर गेम्स खेल रहे है। इसके कई नुकसान भी है, लेकिन आज हम आपको एक 13 साल के बच्चे के बारे में बता रहे है, जिसने माँ के फ़ोन पर गेम खेलकर 40 हजार रूपए उड़ा दिए और उसके बाद आत्महत्या कर ली।

breaking news

यह घटना मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के 13 साल के कृष्णा की है, इसने लॉकडाउन में अपनी माँ के मोबाईल से ऑनलाइन क्लास लेता था, लेकिन चोरी छिपे गेम भी खेलने लगा। इसके बाद वह उस गेम में पैसे भी लगाने लगा। कृष्णा को फ्री फायर गेम खेलने का बड़ा शौक था। लेकिन गेम को खेलने के दौरान उसने 40 हजार रुपए हार गया था। ये पैसे उसकी माँ के बैंक अकाउंट से कटे थे।

breaking news

उसकी माँ प्रीति पांडेय को मोबाईल पर जब बैंक से पैसे कटने का मैसेज आया तब उसे इस बात का पता चला, तब बेटे ने बताया कि उनके पैसे फ्री फायर गेम से कटे हैं। ये सुन मां बहुत नाराज हुई और उसने बेटे को डांट लगा दी। मां की डांट सुनकर बेटा इतना डिप्रेशन में चला गया कि उसने अपने कमरे में फाँसी लगा ली। खुदखुशी करने से पहले उसने एक सुसाइड नोट भी लिखा है जिसे पढ़ आपकी आंखों से भी आंसू छलक जाएंगे। उसमे उसने अपनी माँ को सॉरी कहाँ है।

breaking news

कृष्णा 6वीं क्लास में पढता था, शुक्रवार दोपहर 3 बजे वह घर में अपनी बहन के साथ अकेला था। उसकी माँ अस्पताल में थी। माँ के मोबाईल पर 1500 रुपए कटने का मैसेज आया था। ऐसे में माँ ने बेटे को फोन कर पूछा कि पैसे कैसे कटे? उस बात पर माँ ने उसे फटकार लगा दी। डांट सुनने के बाद कृष्णा कमरे में चला गया और अंदर से दरवाजा बंद कर लिया। कुछ समय बाद बड़ी बहन ने दरवाजा खटखटाया। पर नहीं खोला, तब मम्मी पापा को कॉल किया, तो उन्होंने कृष्णा के कमरे का दरवाजा तोड़ दिया तब देखा तो 13 साल का बेटा फंदे पर लटका था।

कृष्णा के कमरे से एक सुसाइड नोट भी मिला जिसमें गेम में 40 हजार रुपए हारने की बात लिखी। उसने अपनी माँ के लिए लिखा ‘एम सॉरी मां, डोंट क्राइ।’ बच्चे का यह सुसाइड नोट अब सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...