15 साल में पहली बार राष्ट्रपति ने की रेल यात्रा, रेलकर्मियों ने किया बड़ा खुलासा इस रेल यात्रा पर।

President Rail Yatra

हम आपको बता दे की राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अपने उत्तर प्रदेश स्थित गृहनगर के लिये गए है। यहां पर उन्होंने अपने जीवन की कई बाते लोगो के साथ शेयर की है। लेकन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा ट्रेन से सफर करके इस जगह पर पहुचने का फैसला ट्रेन के संचालन में शामिल रेलकर्मियों के लिए बहुत ही नया अनुभव प्रदान करने वाला था। उनके द्वारा इसके लिए कहा गया की यह पल ‘जीवन में एक बार का अनुभव’ और ‘गौरव का पल’ था।

Ram Nath Kovind Rail

उन्होंने कहा की पिछले 15 सालों में पहला मौका था, जब किसी राष्ट्रपति ने ट्रेन से सफर किया, अक्सर राष्ट्पति अपने निजी वाहनों के साथ ही सफर करते है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ऐसे पहले राष्ट्रपति बन गए हैं जिन्होंने राष्ट्रपति के ‘सैलून’ (अतिविशिष्ट यात्री डिब्बे) में सफर नहीं किया। सूत्रों द्वारा बताया गया की उन्होंने गृहनगर पाराऊंख का सफर ऐसे डिब्बे में किया जो महाराजा एक्सप्रेस ट्रेनों में पर्यटकों द्वारा बुक कराए जाते है। 

Ram Nath Kovind

राष्ट्रपति कोविंद ने 2018 में रेल मंत्री को चिट्टी लिखकर विशेष डिब्बे को ट्रेन से हटाने का अनुरोध किया था, क्योंकि उनके मुताबिक इसकी देखभाल व रखरखाव के कारण सरकारी खजाने पर अनावश्यक बोझ पड़ता है। और बहुत कम लोग इसमें सफर करत है। शुक्रवार को यात्रा के दौरान कोविंद की ट्रेन उत्तर मध्य रेलवे के प्रयागराज मंडल के 2 स्टेशनों झींझक और रूरा में कुछ देर के लिए रुकी थी। यहां के रेलकर्मियों द्वारा इनका स्वागत भी गया गया था।

उनका कहना है की यह पहला मौका था जब एक राष्ट्रपति अपनी विशेष ट्रेन से बाहर निकले और लोगों से बात की। 

सफदरजंग रेलवे स्टेशन से कानपुर सेंट्रल स्टेशन तक उनके साथ ट्रेन के गार्ड रहे अक्षय दीप चौहान ने कहा, की यह पल मेरे लिए जिंदगी का कभी न भूलने वाला पल है। राष्ट्रपति की ट्रेन का गार्ड बनना जीवनभर में कभी मिलने वाला एक अवसर है। इसस मुझे बहुत ही प्रसन्नता मिली।’ ट्रेन के इंजन चालक संजय कुमार सिंह ने कहा कि यह उनके लिये ‘गर्व का पल’ था जैसे मेने महसूस किया उसी तरह ट्रेन के अन्य कर्मियों को महसूस हुआ है। 

Ram Nath Kovind in Kanpur

आपको बता दे की इसके पहले 2006 में पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने देहरादून स्थित भारतीय सैन्य अकादमी की पासिंग आउट परेड में शामिल होने के लिए दिल्ली से देहरादून तक का सफर ट्रेन में किया था। इनके पहले भी कई कुछ राष्ट्रपति ने ट्रेन से सफर किया है जो यादगार रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...