अपने सपनो की 22 लाख की कार बेच कर शख्स कर रहा कोरोना पीड़ितों की मदद – जाने शख्स ने क्या कहा।

ऑक्सीजन मैन

देखा जाए तो भारत अभी बहुत ही गंभीर स्थिति से गुजर रहा हैं। एक तरफ कोरोना मरीजों की बढ़ती तादात तो वहीं दूसरी तरफ दवाइयों और ऑक्सीजन की कमी। यह ऐसी परिस्थिति है जिससे बचना बहुत ही जरुरी हैं। और यही कारण है की लोग जितना बन पा रहा उतना अपने आसपास के लोगो की मदद कर रहे हैं। बस हर कोई यही चाहता है जैसे भी हो ये समय निकल जाए। इन्ही सबके बीच एक ऐसा भी शख्स है जो लोगो को प्राण वायु ऑक्सीजन मुहैया करवा रहा हैं।

अपनी सपनो की कार बेच कर ख़रीदे ऑक्सीजन सिलेंडर

वैसे तो हर कोई अपनी स्थिति के अनुसार लोगो की मदद कर रहा है क्योकि अभी का समय हर किसी के लिए कठिन है। लेकिन मुंबई के मलाड का यह शख्स अपनी कार 22 लाख रूपए में बेच कर लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर दे रहा हैं। जो की हर किसी के लिए फरिश्ता बन गया हैं। आपको बता दे की मुंबई के मलाड में रहने वाले इस शख्स का नाम शाहनवाज शेख (Shahnawaz Sheikh) हैं। जिसे सोशल मीडिया पर हर कोई “ऑक्सीजन मैन” के नाम से पहचान रहा हैं। आपको जानकर हैरानी होगी की शाहनवाज की टीम ने एक कंट्रोल रूम बनाया है और एक हेल्पलाइन नंबर भी रखा है जिससे की एक फ़ोन कॉल पर पीड़ित को ऑक्सीजन पहुंचाई जा सके। और उसकी जान बच सके।

दिलचस्प बात तो ये है की मदद करने के लिए उन्हें काफी बड़ा त्याग करना पड़ा। रिपोर्ट के मुताबिक, शाहनवाज ने अपनी 22 लाख रूपए की सुव बेच दी। जिससे की उन्होंने जरूरतमंदों के लिए 160 सिलेंडर ख़रीदे हैं और अब उन तक मदद पहुंचा रहे हैं। बता दे की वह पिछले साल भी लोगो की मदद कर चुके हैं। लेकिन उनके पास पैसे खत्म हो गए थे जिसके कारण उन्हें अपनी कार बेचना पड़ी।

एक न्यूज़ डेली से बात करते हुए शाहनवाज ने बताया की पिछले साल उनके दोस्त की पत्नी ने ऑक्सीजन की कमी के कारण ऑटो रिक्शा में ही अपनी जान गवां दी थी। जिसके बाद से उन्होंने यह ठान लिया था की वह लोगो तक ऑक्सीजन पहुचाएंगे ताकि फिर कोई ऐसे अपनी जान न गवां पाए।

4000 से ज्यादा लोगो की मदद कर चुके है “ऑक्सीजन मैन”

शाहनवाज ने आगे बताया की दिख रहा है की पिछले साल की तुलना में इस साल हालत बहुत ख़राब हैं। जहाँ हमे 1 जनवरी में ऑक्सीजन के लिए 50 कॉल आते थे। वहीं अब हमें रोजाना 500-600 कॉल आ रहे हैं। लेकिन इसमें से वह सिर्फ 10-20 फीसदी लोगो तक ही अपनी मदद पहुंचा पा रहे हैं। उनकी टीम पीड़ितों के घर तक ऑक्सीजन सिलेंडर पहुँचाती हैं। और पिछले साल से अब तक करीब 4000 लोगो की मदद कर चुके हैं।

इस कहानी से हमे यही प्रेरणा मिलती हैं की हम जितना बन सकता हैं उतना अपने आसपास के पीड़ित लोगो या गरीब लोगो की मदद करे। जिससे की वह भी इस महामारी में जीवनयापन कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...