कोरोना की लड़ाई में आज का दिन बहुत अहम – जाने इसकी पूरी वजह।

2 DG

कोरोना महामारी देश में अपना बहुत ही बुरा कहर दिखा रही हैं। लेकिन भारत उससे बड़ी ही मजबूती के साथ लड़ रहा है। हमारे फ्रंट लाइन वर्कर्स देश की जनता की रक्षा के लिए अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहे है। और बड़ी ही मजबूती के साथ। ऐसे में भारत का साथ दुनिया के लगभग हर देश दे रहे हैं। ऐसे में भारत के लिए आज का दिन काफी महत्वपूर्ण हैं। क्योकि कोरोना से मजबूती के साथ लड़ने के लिए मील का पत्थर साबित होने वाली 2-DG दवा का पहला बैच सोमवार को लांच हो रहा हैं। जिसकी पहली खेप रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन जारी करेंगे।

2-DG कैसे काम करती है कोरोना के खिलाफ

बता दे की 2-DG दवा कोरोना मरीजों के इलाज के लिए रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन द्वारा हैदराबाद में विकसित की गई हैं। जिसको ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए सहायक चिकित्सा के अनुरूप आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दे दी हैं।

इस दवा का कई राज्यों में क्लिनिक ट्रायल किया गया जिसमे यह दवा अस्पताल में भर्ती मरीजों को जल्दी से ठीक होने में मदद करती हैं। इसके साथ ही 2-DG मरीजों को ऑक्सीजन की निर्भरता को भी काम करती हैं। सरकार का दावा है की 2-DG के साथ जिन मरीजों का इलाज किया गया उनका ज्यादा अनुपात में RT-PCR भी नेगेटिव आया हैं।

कितने समय में हुई यह दवा विकसित

कोरोना की पहली लहर अप्रैल 2020 से ही इस दवा को विकसित करने के लिए कार्य शुरू कर दिया गया था। इस दवा के लिए DRDO के वैज्ञानिकों ने सेंटर फॉर सेक्युलर एंड मॉलिक्युलर बायोलॉजी, हैदराबाद की मदद से लेबोरटरी में कई प्रयोग किये जिसमे से यह पाया गया की 2-DG मॉलिक्यूल SARS-CoV-2 वायरस के खिलाफ प्रभावी ढंग से काम कर रहा हैं और वायरस को बढ़ने से रोकता हैं।

जिसके बाद मई से अक्टूबर 2020 तक इस दवा का परीक्षण मरीजों में किया गया और फेज 2 में यह दवा कोरोना मरीजों में सुरक्षित पाई गई। वहीँ दूसरे फेज का परीक्षण 110 मरीजों में दो भागों में किया गया था। जिसमे पहले फेज में 6 अस्पताल और दूसरे फेज में 11 अस्पतालों में किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top
error: Please do hard work...