आखिर कैसे बनी 8 साल की उम्र में पुरे शहर की मेयर, पद लेते ही जारी किया यह नोटिस की…

8 year old girl become mayor for one day

एक समय होता है जिसमे बच्चा सिर्फ खिलौने से खेलता हैं। लेकिन आज के समय में 2-3 साल के बच्चे मोबाइल से खेलते हैं और थोड़े बड़े होते है वह अपने मम्मी पापा को मोबाइल चलाना सीखा देते हैं। लेकिन पहले का समय था जब बच्चा 6-7 साल का होता था तब तक तो सिर्फ खिलौने से ही खेलता था। लेकिन समय के साथ इतना परिवर्तन हो गया की बच्चा खिलौना छोड़ कर मोबाइल पर आ गया हैं। और जो हम बताने वाले है उसे तो जानकर आप बहुत ही हैरान हो जाओगे। वो है 8 साल की बच्ची जो 1 दिन की मेयर बनी साथ ही पूरा शहर संभाला।

आपको सुन कर हैरानी होगी लेकिन यह सही बात है राजस्थान के शहर जयपुर की रहने वाली 8 साल की बच्ची इशिता जाजोरिया रामपुरा कॉलोनी में रहने वाली एक दिन की पुरे जयपुर शहर की मेयर बनी और पुरे शहर को संभाला। आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन वह बच्ची बोल नहीं सकती, उसे एक दुर्लभ बीमारी हैं। लेकिन फिर भी वह अपनी जिंदगी को अच्छे से जीना चाहती हैं।

कैसे बनी 8 साल की बच्ची एक दिन की मेयर

जैसा की हम सब जानते है देश भर में 8 मार्च को International Women’s Day बनाया गया। इस मौके पर हर किसी ने महिलाओं और लड़कियों को स्पेशल फिल कराया। और यही 8 साल की इशिता के साथ भी हुआ। और उसे एक दिन की जयपुर की मेयर बना दिया गया। हालांकि जयपुर की मेयर मुनेश गुर्जर है जिन्होंने इशिता को एक दिन के लिए जयपुर नगर निगम की एक दिन की मेयर बना दिया।

जयपुर के मेयर मुनेश गुर्जर ने इशिता को गोद ले रखा है और मुनेश ही इशिता का पूरा खर्चा उठाते है। बता दे की मुनेश को पिछले साल ही पता चला था की इशिता के घर की हालत ठीक नहीं है और उसके पिता गरीब है और इशिता की पढाई का खर्चा नहीं उठा सकते। यह बात पता लगने पर मुनेश ने इशिता को गोद ले लिया था और तब से ही वह उसका पूरा खर्चा उठाते हैं। जिसके बाद मुनेश ने इशिता को महिला दिवस के मौके पर जयपुर की एक दिन की मेयर बना दी। मेयर बनते ही इशिता ने एक नोट लिखा – हमारा लक्ष्य शहर को साफ़ और स्वच्छ बनाना हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top