देश का सबसे ऊंचा शिव मंदिर जहाँ के पत्थरों से आती है डमरू की आवाज

sbse bda shiv mandir

बहुत से मंदिर ऐसे होते है जिनकी कोई मान्यता होती है, आज हम आपको इस आर्टिकल में एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बताने जा रहे है। यह मंदिर हिमाचल प्रदेश में है, इस मंदिर का नाम जटोली शिव मंदिर है और यह बेहद ही खास मंदिर है। इस मंदिर की ऊंचाई 122 फुट है, इसलिए यह देश का सबसे ऊँचा शिव मंदिर माना जाता है। कहते है इस मंदिर तक जाने के लिए काफी चढ़ाई करनी पड़ती है।

Aisa Biggest Shiv Temple

आप सभी जानते है की सावन महीना चल रहा है और यहाँ सावन महीने में भक्तो की बहुत भीड़ होती है। दर्शन करने में घंटो समय लग जाता है। यह मंदिर हिमाचल के सोलन में एक पहाड़ी पर है। इस मंदिर के ऊपर 11 फुट का विशाल सोने का कलश भी है। यहां मंदिर के पास एक जलकुंड है जिसमे सदा पानी भरा रहता है। कहते है यह गर्मी के मौसम में भी नहीं सूखता है।

Aisa Biggest Shiv Temple

यहाँ मंदिर में स्टफिक मणि शिवलिंग स्थापित है और दीवारों पर बहुत से देवी देवताओं की मूर्तियां उकेरी गयी है। मान्यता है की मंदिर में लगे इन खास पत्थरो में से एक खास आवाज आती है, जो की डमरू की आवाज जैसी होती है। यहाँ शिव भगवान के साथ माता पार्वती की भी मूर्ति है। लोगो का कहना है की यहाँ भगवान शिव आकर रुके थे।

Aisa Biggest Shiv Temple

यहाँ स्तिथ इस जलकुंड से भी एक कहानी जुडी है चलिए हम आपको बताते है। कहते है साल 1950 में यहाँ स्वामी कृष्णानंद परमहंस नामक एक संत आये थे और उस समय यहाँ पानी की बहुत कमी थी जिस वजह से यहाँ के लोग परेशान हो रहे थे। तब स्वामी कृष्णानंद ने घोर तपस्या की और अपने त्रिशूल के प्रहार से इस जलकुंड का निर्माण किया। जैसे ही इन्होने त्रिशूल को ज़मीन पर मारा जल की धारा फुट गयी और तब से यहाँ जलकुंड है।

Aisa Biggest Shiv Temple

तब से आज तक ये जलकुंड कभी नहीं सूखा और इसमें हमेशा पानी रहता है। साथ ही इस कुंड की मान्यता है की जो इसमें एक बार आकर स्नान करले उसको हर रोग से मुक्ति मिलती है। इस मंदिर का निर्माण संत कृष्णानंद के मार्गदर्शन में हुआ। इस मंदिर की नीव साल 1974 में रखी गयी थी और साल 1983 में इन्होने समाधी लेली थी। आपको जानकर हैरानी होगी की इस मंदिर को बनने में 39 साल का समय लगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...