व्यक्ति के प्राण इन तरीकों से निकलते है जिसमे मुँह और नाक से देह त्यागना माना गया है बहुत ही शुभ।

garud

आपने सुना होगा की सनातन धर्म को सबसे पुराना धर्म कहा जाता है। यह धर्म बहुत बड़ा मन जाता है और इसकी बहुत सी मान्यताये और ग्रंथ या पुराण होती है। आपने कभी गरुड़ पुराण का नाम सुना है यह भी उन पुराणों में से एक होती है। गरुड़ पुराण को 18 महापुराण में से एक माना गया है। आपकी जानकारी के लिए बता दे की जो गरुड़ पुराण है उसमे एक व्यक्ति की मौत से जुड़े कई राजो का भी उल्लेख किया गया है।

garud

आप भी जानते है की मनुष्य का शरीर मिटटी से बनता है और उसी मिट्टी में मिल जाता है, यानि इंसानी शरीर नश्वर होता है। एक दिन हर इंसान को ये दुनिया छोड़नी ही है। आपने कभी गौर किया हो तो देखा होगा की कई बार इंसान जब मरता है तो किसी की आँखे उल्ट जाती है तो किसी का मुँह खुला रहता है और कई इंसान मरते वक्त मल-मूत्र त्याग देते है। इन्ही सब चीजों को लेकर गरुड़पुराण में काफी कुछ कहा गया है।

ऐसे निकलते है प्राण

garud

गरुड़ पुराण के अनुसार एक इंसान के मरते वक्त आत्मा शरीर से नौ द्वार से शरीर को छोड़ती है। ये नौ द्वार में दोनों कान, दोनों आँखे, दोनों नासिका, मुँह या फिर उत्सर्जन अंग होते है। कहा जाता है की उत्सर्जन अंग से जब एक इंसान की आत्मा निकलती है तो वह इंसान मरते वक्त मल-मूत्र त्यागता है, गरुड़ पुराण के अनुसार मल-मूत्र द्वारा किसी की आत्मा का निकलना अच्छा नहीं माना जाता है।

पापी व्यक्ति के साथ होता है ऐसा

कहते है की उत्सर्जन अंग से जिसके प्राण निकलते है वह पापी होता है। पापी इंसान यानि जो जीवन भर सिर्फ अपने बारे में सोचता है, जिसे जनकल्याण से कोई मतलब ही नहीं होता। जो सिर्फ हमेशा धन और काम वासना में लीन होता है। कहते है जब ऐसे लोगो की मृत्यु के समय उन्हें यम लेने आते है तो वह उन्हें देख कर घबरा जाते है और उनके प्राण नीचे की और जाने लगते है और उनकी प्राणवायु नीचे के मार्ग से निकल जाती है।

धार्मिक लोगों के प्राण निकलते है ऐसे

garud

गरुड़ पुराण के अनुसार जिन लोगो के प्राण मुँह से निकलते है वह सबसे श्रेष्ठ होता है यानि ऐसा इंसान जीवन भर धर्म के मार्ग पर चलता है और जिन लोगो के प्राण नासिका से निकलते है वो भी बहुत अच्छा होता है ऐसे लोगो को गरुड़ पुराण के अनुसार वैरागी कहा जाता है।

आंखें उलटना

garud

गरुड़ पुराण के अनुसार कहते है की जिन लोगो के प्राण आँखों के रास्ते निकलते है वो इंसान मोह माया से भरपूर होता है और साथ ही उसको अपने परिवारजनों का भी बहुत मोह होता है। कहते है की ऐसे लोगो की जब मौत निकट होती है तो उनकी आँखे काम नहीं करती, कान से सुनना बंद हो जाता है और वह कुछ बोल नहीं पाते है। ऐसे लोगो को यम जबरदस्ती लेकर जाते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...