कैप्टन विक्रम बत्रा के पिता द्वारा किया गया बड़ा खुलासा, साल में दो बार आता है कॉल – जानिये पूरी कहानी।

Vikram Batra

कैप्टन विक्रम बत्रा की सहादत को आज हर कोई जानता है, उन्होने किस तरह से कारगिल युद्ध में अपने देश के लिए अपने प्राणो को न्योछावर कर दिया। उनके पिता गिरधारी लाल बत्रा द्वारा दिए इंटरव्यू के दौरान उन्होने उनकी गर्लफ्रेंड डिंपल चीमा के बारे में कई खुलासे किए हैं। जिसमे उन्होंने बताया कि डिंपल आज भी उन्हें साल में दो बार ही कॉल करती है।

Vikram Batra

कैप्टन विक्रम बत्रा वर्तमान में एक फिल्म का निर्माण किया गया है, जिसका नाम ‘शेरशाह’ है। वह रिलीज हुई है, जिसके बाद दर्शकों ने इस फिल्म को काफी पसंद किया है। इस फिल्म में कैप्टन विक्रम बत्रा के जीवन को दर्शाया गया है। इस फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा और कियारा आडवाणी ने बखूबी काम किया है, सिद्धार्थ ने कैप्टन विक्रम बत्रा का किरदार निभाया है और उनकी गर्लफ्रेंड का किरदार कियारा ने निभाया है। इंटरव्यू के दौरान कैप्टन विक्रम बत्रा के पिता गिरिधर लाल बत्रा ने उनकी गर्लफ्रेंड डिंपल चीमा के बारे में कई खुलासे किए हैं, जिसमे बताया की कैप्टन विक्रम बत्रा के शहीद होने के बाद डिंपल ने कभी शादी नहीं की है।

Vikram Batra Dimple Cheema

विक्रम बत्रा के पिता गिरिधर लाल बत्रा ने बताया, “डिंपल हमें साल में केवल दो बार ही कॉल करती हैं, एक बार मेरी पत्नी कमल कांत शर्मा के बर्थडे पर और दूसरी बार मेरे बर्थडे पर। “ये पूछे जाने पर कि क्यों उन्होंने कभी डिंपल को शादी के लिए नहीं मनाया, तब उन्होंने बताया की “कारगिल युद्ध में विक्रम के शहीद होने के बाद हमने उसे शादी कर लेने के लिए कई बार कहा लेकिन उसने शादी नहीं की, डिंपल ने कहा कि वह अपनी जिंदगी विक्रम की यादों के सहारे ही काट लेगी, लेकिन वह किसी और से शादी नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि डिंपल रिश्तों की अहमियत जानती है शायद इसलिए उन्होंने अभी तक शादी नहीं की।

Vikram Batra

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Sidharth Malhotra (@sidmalhotra)

विक्रम बत्रा 1997 में 13वीं बटालियन जम्मू और कश्मीर राइफल्स के लेफ्टिनेंट के रूप में भारतीय सेना में कमीशन किया गया था। उसके बाद युद्ध के मैदान में ही कैप्टन के पद पर पदोन्नत किया गया था। विक्रम बत्रा अपनी प्रेमिका से मंगेतर बनी डिंपल चीमा से बेहद प्यार करते थे। लेकन विक्रम उस युद्ध के दौरान शहीद हो गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...