चाणक्य के अनुसार ऐसी महिलाएँ जीवन को ले जाती है बर्बादी की ओर – इनसे दूर रहा ही है भलाई।

Chankya Niti

चाणक्य ने अपनी नीतियों में बहुत सारी ऐसी बातें बताई है जिनके करने से जीवन में भलाई मिलती हैं। ऐसे ही चाणक्य ने महिलाओं के भी कई ऐसे अवगुण बताए है जिनके कारण स्त्रियां अपने जीवन को पूरी तरफ बर्बादी की ओर ले जाती हैं। वैसे तो दुनिया में कोई नहीं बता सकता की स्त्री के दिमाग में क्या चल रहा हैं लेकिन चाणक्य ने भी ये बात कही है की स्त्री के दिमाग में क्या चल रहा हैं वह कोई नहीं बता सकता हैं। आगे आचार्य ने बताया की जो स्त्री गुणों से भरी होती है वह जीवन को आबाद कर देती है और जो अवगुणों से भरी होती है वह जीवन को बर्बाद कर देती हैं।

चाणक्य का स्त्रियों पर श्लोक –

अनृतं साहसं माया मूर्खत्वमतिलोभिता।
अशौचत्वं निर्दयत्वं स्त्रीणां दोषा: स्वभावजा:।।

चाणक्य ने इस श्लोक में स्त्रियों की पांच बुराइयों का वर्णन किया हैं। चाणक्य के अनुसार जिन भी स्त्री में ये पांच अवगुण होते है ऐसी स्त्री से दुरी बना कर रखने में ही भलाई हैं। चलिए आईये हम आपको बताते है कौन से वो पांच अवगुण है जिनके बारे में चाणक्य ने खुद वर्णन किया हैं।

नखरे वाली महिलाएँ

आपने देखा होगा कुछ महिलाएँ बहुत नखरे वाली होती है और वह अपने नखरे मनवाने के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं। और ऐसी महिलाएँ छोटी से छोटी बातों को बड़ा बना देती हैं। ऐसी महिलाओं से बच कर रहना चाहिए। चाणक्य ने अपने श्लोक में बताया की नखरे वाली लड़की जीवन को नर्क बना देती हैं। और इसके साथ ही जो लड़की छोटी-छोटी बातों पर रोने लगे वो भी खतरनाक होती है।

बिना सोचे समझे फैसला लेने वाली महिलाएँ

कुछ लड़की ऐसी होती है जो बिना कुछ सोचे-समझे बस अपना फैसला ले लेती हैं। चाणक्य के अनुसार ऐसी महिलाओं से भी दुरी बना कर रखना चाहिए। क्योकि जो बिना सोचे समझे फैसला लेती है वह खुद को खतरे में डाल लेती हैं।

बात-बात पर झूठ बोलने वाली महिलाएँ

बहुत सारी महिलाएँ देखा होगा बात-बात पर झूठ बोलती हैं। ऐसी महिलाओं पर कभी विश्वास नहीं करना चाहिए। क्योकि ऐसे अवगुण वाली लड़की अपने आप को बचाने के लिए किसी को भी फसा सकती हैं। और ये सिर्फ अपना फायदा देखती है जिसके लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं। इसलिए ऐसी महिलाओं पर कभी विश्वास नहीं करना चाहिए।

अधिक आत्मविश्वास रखने वाली महिलाएँ

जिन महिलाओं में अधिक आत्मविश्वास होता है वह किसी का भी मान-सम्मान नहीं करती हैं। और अपनी बातों को हमेशा तर्ज पर रखती हैं। और इसलिए चाणक्य कहते है जो महिलाएँ जरुरत से ज्यादा खुद पर भरोसा करती है वह मूर्खतापूर्ण कार्य कर बैठती हैं। और अपने इस अवगुण के कारण किसी भी परेशानी में फस सकती हैं।

पैसों की लालची महिलाएँ

जिस किसी भी स्त्री को गहने या धन अत्यधिक पसंद होता हैं। वह पैसों के लिए किसी भी हद से जा सकती है। चाहे उसके लिए किसी को नुकसान ही क्यों न पहुंचना हो। और चाणक्य कहते है जो स्त्री धन से अधिक प्रेम करती है उनमे सही गलत की समझ नहीं होती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...