मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अजय सिंह बिष्ट से संन्यासी तक का सफर – संघर्षों भरी गुजरी है जिंदगी।

Yogi Aditya Nath Biography

दिल्ली में बीजेपी नेताओं द्वारा हो रही वर्तमान में मुलाकात का दौर थम नहीं रहा है। ऐसा माना जा रहा है, की यूपी में कुछ बड़ा होने वाला है। देश के सबसे बड़े प्रदेश यूपी में बदलाव के समीकरण साफ़ नज़र आ रहे है। वर्तमान में उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी है, जो दो दिन से दिल्ली में ठहरे हुए है। और अनेक भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से लेकर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति से भी उन्होंने मुलाकात की है यह तो अभी कहना मुश्किल होगा की आगे क्या होने वाला है, लेकिन इसमें यूपी में विधानसभा चुनाव के समीकरण की चर्चा है। आज हम आपको मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के बारे में बतायेगे की इनका यहां तक का सफर कैसा रहा है।

योगीजी की ऐसी दिनचर्या

Yogi Adityanath Biography

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नाम पहले अजय सिंह बिष्ट था, जिसे बाद में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रखा गया। योगी गोरखपुर आश्रम में रहा करते थे, वह शुरू से सुबह जल्दी उठते है, उनकी दिनचर्या सुबह 3 बजे शुरू होती है। वह सुबह 400 गायों को खुद गुड़ खिलाते थे उसके बाद योग और प्रार्थना करते हैं। इसके बाद सीएम सुबह जनता दरबार में लोगों की समस्याएं सुनते हैं। योगी का जन्म उत्तराखंड में उत्तरकाशी के गांव मशालगांव में हुआ था।

अजय सिंह बिष्ट से योगी आदित्यनाथ

Yogi Adityanath with PM

कॉलेज में वह एबीवीपी के साथ जुड़कर छात्र राजनीति से जुड़ गए, जहा से उन्होंने अपने राजनीती की शुरुआत की। उस समय रामजन्मभूमि आंदोलन में रुचि लेना शुरू कर दिया, 1993 की शुरुआत में जब राममंदिर आंदोलन अपने चरम पर था जिसमे अजय सिंह गोरखनाथ मंदिर के दर्शन के लिए गए और वहां महंत अवेद्यनाथ से मिले जिसके बाद उन्होंने उनसे दीक्षा ली और अपना नाम अजय सिंह बीस्ट से योगी आदित्यनाथ रखा। 1993 में अपने परिवार को बिना कुछ कहे गोरखपुर पहुंच गए और जब उनके गुरु की मौत हुई तो योगी मंदिर के मुख्य पुजारी बन गए।

इन विवाद में नाम आया

Yogi Adityanath Dailyroutine

योगी आदित्यनाथ का नाम अक्सर विवादों में रहता है। 2007 में योगी पर दंगे भड़काने का भी आरोप लगा था, जिसके लिए उन्हें 11 दिन जेल में भी रहना पड़ा था। उनके विवादित बयानों में ‘सूर्य नमस्कार का विरोध करने वाले भारत छोड़ें आदि शामिल है। 1998 में 26 साल की उम्र में योगी गोरखपुर के सांसद बने जो युवा सांसद में से एक माने जाते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...