#CongressToolkitExposed, देश के पीएम को बदनाम करने के लिए देखे कैसे बनाई कांग्रेस ने टूलकिट।

Toolkit Exposed

देश में कोरोना की महामारी बुरी तरह से फैली हुई है। और इसी बीच विपक्ष देश के पीएम की छवि को ख़राब करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा हैं। विपक्ष मोदी सरकार को आए दिन देश में हो रही ऑक्सीजन की कमी, बेड और वैक्सीन के लिए घेर रहा है और सवाल उठा रहा हैं। जिसमे झारखंड के मुख्यमंत्री प्रधानमंत्री पर ये आरोप लगाते है की वह मुख्यमंत्रियों की बैठक में सिर्फ “मन की बात” करने आते हैं। और दूसरी तरफ राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी देश के बाचों के लिए बनी वैक्सीन विदेशों में बेचने का आरोप लगाते है। लेकिन कांग्रेस इतना बड़ा आरोप लगाते हुए शायद भूल गई की बच्चों की वैक्सीन विदेश में कैसे बेच दी जब बच्चों की वैक्सीन बनी ही नहीं हैं।

Sambit patra

लेकिन उन्हें इससे क्या मतलब उन्हें तो सिर्फ आपदा में अवसर जो दिख रहा हैं। लेकिन अफ़सोस की बात है की कांग्रेस आपदा में अवसर भी सही से नहीं तलाश पा रही हैं। और इसी का जवाब देते हुए भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा की कांग्रेस कोरोना काल में देश के प्रधानमंत्री की छवि को धूमिल करने का काम कर रही हैं। जिसके लिए कांग्रेस ने एक टूलकिट तैयार किया है। भाजपा का आरोप है की कांग्रेस आपदा में भी राजनीति कर रही हैं।

इसी पर ही प्रवक्ता संबित पात्रा नहीं रूखे उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा की – “यह कहते हुए काफ़ी घृणा हो रही है कि राहुल गांधी इस महामारी के दौर में भी देश के प्रधानमंत्री की छवि धूमिल करना चाहते हैं। म्यूटेंट स्ट्रेन को “मोदी स्ट्रेन” कहने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ता प्रेरित हो रहें। विदेशी पत्रकार के सहारे भारत का नाम बदनाम करने में विपक्षी कोई कसर नहीं छोड़ रहें।”

Toolkit

संबित पात्रा यहीं पर ही नहीं रुके उन्होंने आल इंडिया कांग्रेस के रिसर्च डिपार्टमेंट का एक पेपर भी शेयर किया। जिसमे आप देख सकते है की उसमे लिखा है की भारत में पाए गए नए म्युटेंट को सोशल मीडिया पर कार्यकर्ता “मोदी म्युटेंट” बोल सकते हैं। अब आप ही कांग्रेसियों की सोच को देख लीजिये जो कभी कोरोना की वैक्सीन को मोदी वैक्सीन बता रही थी। आज उनकी नियत इतनी रसातल में चली गई की वो एक महामारी को मोदी की देन बता रहे हैं। यही होती है एक स्वतंत्र लोकतंत्र में विपक्ष की भूमिका? लेकिन यह एक बड़ा प्रश्न खड़ा हो गया हैं, क्योकि अब कांग्रेस किसी भी विपक्ष की भूमिका में नहीं हैं बल्कि वह तो एक एजेंडा चलाने वाले संगठन के रूप में कार्य कर रही हैं। जो की देश की आंतरिक स्थिति की लिए बिलकुल भी सही नहीं हैं।

इसके साथ ही कांग्रेसी टूल किट को लेकर संबित पात्रा ने दावा किया है की कांग्रेस महामारी के समय में भी ऐसी टूलकिट के जरिये सरकार को घेरते हुए देश में भ्रम की स्थिति पैदा कर अपना राजनितिक फायदा ढूंढ रही हैं। संबित ने यह भी कहा की राहुल गाँधी ने महामारी का सहारा लेते हुए प्रधानमंत्री की छवि को धूमिल करने की कोशिश की हैं। और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को कोरोना स्ट्रेन को मोदी स्ट्रेन नाम देने का निर्देश दिया। इसके साथ ही विदेश पत्रकारों की मदद से भारत को बदनाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी हैं। यहां तक की जो कोरोना का नया स्ट्रेन आया है उसे विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी भारतीय स्ट्रेन कहने से मना कर दिया। लेकिन कांग्रेस तो इसे इंडियन स्ट्रेन और उससे भी आगे मोदी स्ट्रेन के नाम से प्रसारित कर रही हैं। इसके साथ ही पात्रा ने कहा की यह बहुत ही दुःख की बात है की कहीं न कहीं पुरे विश्व में कांग्रेस भारत को अपमानित और बदनाम करने के लिए एक वायरस को भारत के नाम और प्रधानमंत्री के नाम से बुला रही हैं। मुझे यह लगता है की कांग्रेस पार्टी का यही असली चेहरा हैं।

लेकिन अगर देखा जाए तो यह स्पष्ट है की जिस मुश्किल समय में सकारात्मक राजनीति विपक्ष को करना चाहिए वह वो कर नहीं रहा। क्योकि वह सिर्फ आपदा में अवसर तलाश रहा है। और आए दिन देश की अवाम को गुमराह भी कर रहा हैं। कभी कोरोना वैक्सीन पर तो कभी वायरस पर जो की एक लोकतान्त्रिक पार्टी को शोभा नहीं देता हैं। प्रधानमंत्री का विरोध कर सकते है लेकिन बिना वजह उनकी नीतियों के प्रति भ्रम फैलाना सही नहीं है इस वक्त। और यह बात पुरे विपक्ष के साथ ही साथ कांग्रेस को भी समझना चाहिए की कोरोना जैसी महामारी से मिलजुल कर ही विजय प्राप्त की जा सकती हैं। क्योकि राजनीति तो बाद में भी कर सकते हैं। लेकिन नहीं कांग्रेस की निति और नियत दोनों में ही देश के हित की बात नजर नहीं आती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...