कोरोना की दूसरी लहर बेकाबू, रोकने के लिए लगाना होगा सख्त लॉकडाउन – AIIMS डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया

AIIMS Director Randeep Guleria

कोरोना की दूसरी लहर ने हर किसी को डरा रखा है रोज 3 से 4 लाख कोरोना के नए मरीज सामने आ रहे है जिससे अस्पतालों और स्वास्थ सेवाओं की हालत भी ख़राब हो गई हैं। और जिस तरह से कोरोना के केस बढ़ते जा रहे है उस तरह से हर किसी को यही लगता है की एक बार फिर से सख्त लॉकडाउन लगाया जाएगा। जिससे की कोरोना की दूसरी लहर पर काबू पाया जा सके। जिस पर दिल्ली एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है और कहा है की कोरोना की दूसरी लहर बहुत घातक हैं और इसे काबू में करने के लिए लॉकडाउन की सख्त जरुरत हैं।

रणदीप गुलेरिया ने शुक्रवार को एक चैनल से बातचीत में कहा की कोरोना वायरस की दूसरी लहर बहुत ही घातक है और इसे काबू करने के लिए पिछले साल की तरह ही सख्त लॉकडाउन लगाना होगा। क्योकि भारत का हेल्थ स्ट्रक्चर भी फ़ैल होता जा रहा है। और एक बार फिर से जैसा पिछले साल मार्च में सख्त लॉकडाउन लगाया गया था। उसकी एक बार फिर से जरुरत है।

आगे रणदीप गुलेरिया के अनुसार जिस इलाके में पाजिटिविटी रेट 10 फीसदी से ज्यादा है वहां पर सख्त लॉकडाउन की बहुत ही ज्यादा जरुरत हैं। इसके आगे गुलेरिया ने कहा की यूपी, महाराष्ट्र, हरियाणा समेत कई ऐसे राज्य भी है जहाँ पर नाईट कर्फ्यू लगाया गया है और वीकेंड लॉकडाउन भी किया गया है लेकिन सिर्फ इतना ही असरदार नहीं होगा।

देश और दिल्ली में ऑक्सीजन की हो रही कमी पर भी रणदीप गुलेरिया ने दुःख जाहिर करते हुए कहा की यह सब लगातार बढ़ते मामलों के कारण हो रहा है की और हमे काफी जरुरत है की इस बढ़ती संख्या को आक्रामक तरीके से कम करना होगा। उन्होने कहा की देश दुनिया में ऐसा कोई भी हेल्थ सिस्टम नहीं है जो इतने बड़े भार को मैनेज करने की क्षमता रखता हो। ऐसे समय में हर किसी का हेल्थ सिस्टम फ़ैल हो जाता हैं। इसलिए हमे सख्त कन्टेनमेंट या फिर लॉकडाउन जो भी संभव हो करना चाहिए।

आपको बता दे की कोरोना से महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, कर्नाटक, केरल, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और राजस्थान ऐसे कई राज्य बुरी तरह से प्रभावित है। और यही वे राज्य है जहाँ से देश में कोरोना के सबसे अधिक मामले सामने आ रहे हैं। बता दे की कोरोना के कारण अब तक देश में 2,11,836 मौते हो चुकी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top