कोरोना संक्रमित होने के 14 दिन बाद टेस्ट करवाना चाहिए या नहीं? – जाने इस पर एक्सपर्ट्स की रॉय।

Corona Positive

हर किसी के दिमाग में एक ही सवाल है की कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद कितने दिनों तक होम आइसोलेशन में रहना चाहिए और उसके बाद फिर से कोरोना का टेस्ट करवाना होगा या नहीं? तो आपको घबराने की जरुरत नहीं हैं अगर आप कोरोना संक्रमित है तो आप घर पर ही खुद को होम आइसोलेशन में कवर कर ले और अपनी हेल्थ और डाइट का पूरा ध्यान रखे। और किसी भी व्यक्ति से सम्पर्क में न आए। क्योकि अगर आप किसी के सम्पर्क में आएंगे तो आपकी वजह से वह भी कोरोना संक्रमित हो जाएगा। अगर डॉक्टर की सलाह माने तो 10 दिनों तक होम आइसोलेशन में रहना चाहिए।

10 दिनों तक ही होम आइसोलेशन में क्यों रहे

Home Isolation

डॉक्टर की माने तो कोरोना का वायरस 10 दिनों में मर जाता हैं। और 10 दिनों के बाद वायरस संक्रमित व्यक्ति से किसी ओर में नहीं जाता है। अब अगर कोरोना संक्रमित व्यक्ति खुद को होम आइसोलेशन में नहीं रखेगा तो इससे कोरोना का वायरस एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे के पास चला जाएगा। जिससे वह भी कोरोना संक्रमित हो जाएगा। ऐसे में यह बहुत जरुरी हो जाता है की कोरोना होते ही खुद को होम आइसोलेशन में कर लिया जाए जिससे की कोरोना का मरीज किसी के भी संपर्क में न आए। अगर कोई भी व्यक्ति किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आता है तो उसके अंदर भी 10 से 14 दिनों में वायरस के लक्षण विकसित हो जाते हैं।

एक संक्रमित व्यक्ति इतने दिनों बाद किसी को संक्रमित नहीं करता

गुरुग्राम के Ent स्पेशलिस्ट डॉ विनीत चड्डा की माने तो उन्होंने एक कोरोना वायरस से संबंधित वेबिनार में बताया था की एक कोविड-19 से संक्रमित मरीज 10 दिन बाद किसी भी दूसरे व्यक्ति को संक्रमित या इंफेक्टेड नहीं कर सकता है। इसी कारण कोविड पॉजिटिव व्यक्ति को होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दी जाती है। अगर क्वारंटाइन ड्यूरेशन के बीच किसी व्यक्ति को लगातार 3-4 दिनों तक बुखार या दूसरे लक्षण नहीं दिखाई देते हैं तो संक्रमित व्यक्ति स्वस्थ्य हैं।

Corona Test

कोरोना पर कई तरह की शोध की गई। ऐसी ही एक शोध में यह सामने आया की कोरोना संक्रमित व्यक्ति 9 दिन तक दूसरों में वायरस पहुंचा सकता हैं लेकिन 9 दिन के बाद मौजूद वायरस संक्रमण फ़ैलाने की क्षमता खो देता हैं।

सिंगापूर के राष्ट्रीय संक्रामक रोग केंद्र ने भी अपने शोध किये जिसमे देखा गया की 10 दिन बाद संक्रमित मरीज, संक्रमण से मुक्त हो जाता हैं। और जिन लोगों का इम्यून सिस्टम मजबूत होता है उन व्यक्ति में ये वायरस 10 दिन के अंदर ही मर जाता हैं।

बता दे की कोरोना संक्रमित व्यक्ति को शुरूआती दौर में ही आइसोलेट करना बहुत ही जरुरी होता हैं। क्योकि ऐसे में वह एसिम्पटोमैटिक मतलब की बिना लक्षण वाले मरीज शुरुआत में ज्यादा संक्रमण फैलाते हैं। इतना ही नहीं कोरोना के मरीज को ज्यादा दिनों तक हॉस्पिटल में रखने की जरुरत नहीं होती हैं।

14 दिनों के बाद नहीं करवाना होता है टेस्ट

RT PCR Test

अगर कोरोना संक्रमित व्यक्ति को कुछ दिनों से कोरोना के कोई भी लक्षण दिखाई न दे रहा हो या बुखार न हो तो ऐसे में उसे होम आइसोलेशन के बाद RT – PCR टेस्ट दोबारा करवाने की जरुरत नहीं होती हैं। अगर कोरोना होने के बाद किसी भी प्रकार का कोई सिम्पटम्स न दिखे तो समझ जाए की आप ठीक हो चुके हैं और आपको फिर से टेस्ट करवाने की जरुरत नहीं हैं।

कुछ लोग कोरोना से ठीक होने के बाद भी अपना टेस्ट फिर से करवाते है। तो उनके लिए कोरोना टेस्ट करवाने के लिए 20 दिनों की अवधि सही मानी गई हैं। अगर आप कोरोना टेस्ट करवाना चाहते है तो आप भी पॉजिटिव रिपोर्ट आने के 20 दिन बाद ही अपना दूसरा टेस्ट करवाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top