दुनिया का सबसे खतरनाक चिड़ियाघर, जहां पिंजरे में कैद होकर जाते हैं टूरिस्ट।

Dangerous Zoo

आपको यह सुनकर बड़ा अजीब लग रहा होगा की आखिर लोगो को पिंजरे में क्यों कैद किया जाता है, पर कैद तो जानवरो को करना चाहिए या फिर आपको यह संकर यकीन न हो रहा हो लेकिन यह बात एक एक दम सही है| चीन में ऐसा ही एक चिड़ियाघर जिसका नाम है लेहे लेदु वाइल्ड लाइफ जू यहाँ पर शेर भालू जैसे खूंखार जानवर खुलेआम हमेशा ऐसे ही घूमते रहते है। और इनको देखने के लिए लोग को गाड़ियों में लगे पिंजरों में कैद होकर चिड़िया घर का मजा लेते है। कभी कभी तो यहाँ कई बार तो यहाँ पर शेर और चीता जैसे खतरनाक जानवर उनके इतने पास आ जाते हैं की लोगों की डर के कारण चीख निकल जाती है।

Worlds Dangerous Zoo

आपको बता दे की यह वाइल्ड लाइफ चिड़ियाघर चीन के चौंगक्विंग शहर में स्थित है। साल 2015 में इस वाइल्ड लाइफ चिड़ियाघर को खोला गया था तब से यहाँ लोग इस अनोखे चिड़ियाघर को देखने आते है। लेहे लेदु वाइल्डलाइफ जू नाम के इस चिड़ियाघर में लोगो को जानवरों के करीब जाने और उन्हें पास से देखने का बहुत ही बढ़िया मौका मिलता है। यहाँ पर सैलानियों के द्वारा जानवरो को खाना भी खिलाया जाता है।

Worlds Dangerous Zoo

जब इस चिडयाघर में इंसानों को पिंजरों में जानवरों के पास ले जाया जाता है तो, शेर इंसानों को पिंजरे में देखकर उनकी और बढ़ते है। और खाने के लालच में पिंजरे के नजदीक जाते है। कभी – कभी तो वह पिंजरे के कर भी चढ़ जाते है, लेकिन मजबूत पिंजरा होने के कारण वह किसी को भी अपना शिकार नहीं बना पाते है।

Dangerous Zoo

वाइल्ड लाइफ जू के संरक्षकों के द्वारा बताया गया है की वह दर्शको को सबसे अलग और बहुत ही रोमांचकारी अनुभव करवाते हैं। जू के प्रवक्ता ने यह कहा कि वह आपने दर्शको को उस वक्त का अनुभव करवाना चाहते है जब कोई खतरनाक जानवर आप पर हमला कर रहे हो या आपका पीछा कर रहा हो। इस चिड़ियाघर में घूमने वाले दर्शको के लिए उनकी सुरक्षा को लेकर यहां सख्त निर्देश दिए गए है।

इसके आलावा इस चिड़ियया घर में लोगो की सुरक्षा के लिए पुख्ता इंतजाम किये है। यहाँ पर 24 घंटे कैमरों से पिंजरों और जानवरों पर नजर रखी जाती है। यहाँ आपातकाल की स्थिति में 5 से 10 मिनट में मदद की जाती है, जिससे आपको किसी तरह की चोट ना पहुंचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top