क्या चाय पीने से कोरोना संक्रमण से बचा जा सकता हैं? – जाने इसके पीछे की हैरान सच्चाई करने वाली।

Chai

कोरोना की लहर भारत में अपना कहर ढहा रही है। और ऐसे में हर कोई व्यक्ति घरेलु नुस्खे करके अपने आपको इससे बचने की कोशिश कर रहा हैं। जिसको जहां से जो नुस्खे मिल रहे वो उसे बारे में फायदे या नुकसान देखे बिना उसको कर रहा हैं। लेकिन ऐसे में ये नुस्खे आपके लिए नुकसान दायक भी हो सकते है। पिछले कुछ दिनों से एक ऐसा ही चाय का नुस्खा सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा हैं। जिसमें बताया गया है की चाय पीने से कोरोना संक्रमण को रोका जा सकता है। तो आज हम उसके बारे में ही जानकारी देने आए है।

क्या सच में चाय पीने से कोरोना को रोका जा सकता हैं?

Chai fact check

बात करे सोशल मीडिया की तो सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफार्म है जहां पर जितना हमको सही ज्ञान और सही जानकारी मिलती है उससे कई ज्यादा फेक जानकारी भी मिलती हैं। अब ऐसे में हमारे लिए यह पता लगाना की कौन सी जानकारी सही है और कौन सी गलत है, ज्यादा कठिन हो जाता हैं। ऐसी ही सोशल मीडिया पर एक क्लिप शेयर की जा रही है जिसकी हैडिंग है “खूब चाय पियो और पिलाओ, चाय पीने वालों के लिए खुशखबरी”। इस हैडिंग का एक छोटा सा पोस्टर बहुत वायरल हो रहा है। जिसमें लिखा है की अगर कोई व्यक्ति दिन में तीन बार चाय पिता है तो वह कोरोना से संक्रमित नहीं होगा।

इस दावे की जांच करते हुए भारत सरकार के ट्वीटर हैंडल PIBFactCheck ने इसको पूरी तरह से फर्जी करार दिया हैं। PIBFactCheck ने अपने ट्वीट में इसकी जानकारी देते हुए कहा की – “एक खबर में दावा किया जा रहा है कि चाय पीने से कोरोना वायरस के संक्रमण को रोका जा सकता है और इससे संक्रमित व्यक्ति जल्दी स्वस्थ भी हो सकता हैं। यह दावा फर्जी है। इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि चाय के सेवन से कोविड-19 के संक्रमण का खतरा कम किया जा सकता है।”

बता दे की इससे पहले सोशल मीडिया पर एक और खबर वायरल हो रही थी जिसमें बताया गया था की पान के पत्ते का सेवन करने से कोरोना वायरस से आसानी से बचा जा सकता हैं। जिसकी भी जानकारी देते हुए PIBFactCheck ने शनिवार को इसे फेक बताया और कहा की ऐसा कोई भी उपाय कोरोना से नहीं बचा सकता हैं। PIBFactCheck ने कहा की कोरोना वायरस से बचने के लिए आप बार – बार हाथ धोए, मास्क लगाए और शारीरिक दुरी का पालन जरूर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top