राज्यपाल ने बताया की क्या हो रहा है बंगाल में हिन्दुओं के साथ – पढ़कर आपका दिल भी पसीज जाएगा।

Governor Dhankhar

अगर आज भारत में ऐसा कोई राज्य है जहाँ पर हिंसा आम बात हैं। तो वह है पश्चिम बंगाल जो लगता है आज कल सिर्फ और सिर्फ हिंसा के लिए ही जाना जाता हैं। बंगाल एक अलग ही अपनी पहचान रखता है क्योकि वहां पर रविंद्र नाथ टैगोर जैसी महान शख्सियत ने जन्म लिया था। लेकिन आज बंगाल अपनी कुछ ओर ही पहचान बना रहा हैं। पिछले कुछ समय से बंगाल में राजनितिक हिंसा आम बात हो गई हैं। और विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से बंगाल में हिंसा रुकने का नाम नहीं ले रही हैं।

राज्यपाल ने ममता बनर्जी से कहा कुछ ऐसा की

Governor Dhankhar

बंगाल में हो रही हिंसा के कारण राज्यपाल ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बहुत सचेत किया लेकिन मुख्यमंत्री जी को इस और तो ध्यान ही नहीं देना हैं ना। उन्हें तो सिर्फ यही करना है की मोदी ने ६ महीने में कोरोना पर ध्यान नहीं दिया। उन्हें अपने राज्य में हो रही हिंसा दिखाई नहीं दे रही हैं। सिर्फ उन्हें केंद्र की और देखना हैं। और यही कारण हुआ की राज्यपाल को खुद बंगाल की मौजूदा स्थिति को देखते हुए कहना पड़ा की – “ऐसा समय चल रहा है, जब हम सो नहीं सकते। राज्य के लिए इतनी बड़ी चुनौती भरा समय है। जहां हम एक ज्वालामुखी पर बैठे हुए हैं। वही लोग अपने घरों को छोड़ने पर मजबूर हैं। उन्हें हत्या, बलात्कार हर तरह से अपमानित किया जा रहा।”

राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने इतना ही नहीं कहा उन्होंने ये भी कहा की मैं उम्मीद करता हूँ की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पूरी गंभीरता से इस स्थिति की ओर ध्यान देगी और सभी संबंधितों को पुनर्वास, विश्वास, मुआवजा और सुरक्षित करने के लिए निर्देश देगी। ताकि सभी एकजुट हो जाए और विभाजनकारी ताकतें अपने मंसूबें पुरे न कर पाए।

राज्यपाल ने ममता बनर्जी पर साधा निशाना

Mamta Banerjee

राज्यपाल ने कहा की राज्य अभी बहुत बुरे हालातों में हैं। राज्य एक ओर कोरोना महामारी के संकट से गुजर रहा हैं, तो वहीं दूसरी ओर राज्य में चुनाव के बाद से हिंसा ओर प्रतिशोधात्मक से भी जूझ रहा हैं। राज्यपाल ने कहा की जो बंगाल में चुनाव के बाद से हिंसा हो रही हैं। ऐसी हिंसा के बारे में पहले कभी नहीं सुना था। यह बहुत ही गंभीर समय हैं। राज्यपाल ने कहा की लाखों लोग पीड़ित हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री से अपील है की वह हालातों पर काबू पाने के पुरे प्रयास करे।

हैरानी की बात यह है की जिस समय ममता बनर्जी मुख्यमंत्री की शपथ ले रही थी। उस दौरान भी राज्यपाल ने ममता बनर्जी को राज्य की स्थिति से अवगत करवाया था। लेकिन ऐसे में सबसे बड़ी बात यह है की जिस समय कंगना रनौत ने पश्चिम बंगाल की तुलना कश्मीर से की तो कुछ बुद्धिजीवी भड़क गए। लेकिन अब जब राज्य के राज्यपाल ही उन्हीं स्थति की बात कर रहे हैं। जिसका मुद्दा कंगना उठा चुकी हैं। तो क्या अब राज्यपाल की बातों को भी दरकिनार कर दिया जाएगा? राज्यपाल तो कोई ऐसा वैसा व्यक्ति हो नहीं सकता। क्योकि इतने बड़े संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति को जब राज्य की दुर्दशा दिख रही हैं तो फिर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को इस ओर ध्यान देना चाहिए ओर राज्य की स्थिति को सुधारना चाहिए। ना की राजनीति के लिए “आपदा में अवसर” की तलाश करना चाहिए।

राज्यपाल यहीं नहीं रुके, पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा के कारण कुछ परिवारों ने असम के अगोमानी इलाके में शरण ली हैं। जिसके कारण राज्यपाल उनसे मिलने के लिए अगोमानी के दौरे पर पहुंच गए। जहाँ पर राज्यपाल ने पीड़ित परिवारों से मुलाकात की और उन्हें संत्वाना भी दी। इसी दौरान एक बुजुर्ग उनसे लिपट कर रोने लगा। जिसके बाद राज्यपाल ने बुजुर्ग को और पीड़ित परिवारों को हर संभव मदद का भरोसा दिलाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top