घर की छत पर बना लिया मॉर्डन गार्डन, लगाए 700 से भी ज्यादा पौधे – अब प्रकृति के बीच रहते हैं।

modern garden

आज के समय में सभी पेड़ पौधे लगाने में अपनी रूचि दिखा रहे है। हम आपको एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बता रहे है, जिसने घर के बहार जगह नहीं होने के कारण घर छत पर ही 700 अधिक पौधे लगा लिए। जानिये इन्होने कैसे लगाए यह पौधे।

प्रकृति से यदि लगाव हो तो उसके लिए आप कुछ भी कर सकते है। ज्यादातर लोग घर की बालकनी, घर की छत या किसी खाली जगह में गार्डेनिंग करते है और अपने मनपसंद पोधो को लगाते है। एक ऐसे ही प्रकृति प्रेमी हैं, जिन्होंने घर की छत को ही खूबसूरत मॉडर्न गार्डेन में तब्दील कर दिया।

घर की पुरानी चीजों के इस्तेमाल से बनाया प्लांटर

modern garden

सख्श कुम्भानगर के रहने वाले है। बालूराम तंवर पेशे से एक हेयर ड्रेसर हैं। इन्होने 4 साल पहले छत पर पेड़ पोधो को लगाना शुरू किया था। बनवारी बताते हैं, की “अधिकांश घरों में छत को डंपयार्ड की तरह इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन घर रखी बहुत सारी बेकार चीजें रखी हुई होती होती है, इसलिए मैंने गार्डेनिंग शुरु की, तो इन सभी चीजों को मेने धीरे-धीरे प्लांटर की तरह प्रयोग में ले लिया।”

बेस्ट आउट ऑफ़ वेस्ट’ का भी अच्छा उदाहरण

modern garden on roof

उन्होंने बताया की पुरानी चीजों का इस्तेमाल करने का यह सबसे अच्छा तरीका होता है। उन्होंने पुरानी-बेकार पड़ी चीजों से प्लांटर बनाया और गमलों में पौधे लगाए। इस तरह धीरे धीरे पोधो को लगाना शुरू किया। उन्होंने भिन्न-भिन्न प्रजातियों के पौधें लगाने शुरु कर दिए। उन्होंने अपने गार्डेन में फल और फूल के साथ साथ अजवाइन, पत्थरचट्टा, लेमनग्रास और मीठा नीम भी लगाया है, यह सभी औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं। इसके अलावा पानी में उगने वाले वाटर अंब्रेला, वाटर लिली, जलपरी और लोटस भी लगाया है। यह सभी आज बहुत बड़े हो चुके है और इनका उपयोग भी जरूरत के अनुसार हम कर रहे है।

छत को बनाया गार्डन

modern garden on roof

उन्होंने अपने गार्डन को दो रूफ में बाटा है, जो 1000 और 700 स्क्वायर फीट में फैला है। बनवारी का यह गार्डेन ‘बेस्ट आउट ऑफ़ वेस्ट’का भी अच्छा उदाहरण है। क्युकी इसमें उन्होंने खराब चीजों का इस्तेमाल करके उन्हें बनाया है। इसके लिए बाइक की डिक्की, पुरानी बाल्टी, टायर, तेल के पीपे और बोतलों का भी इस्तेमाल किया है। आज इस तरह से उनकी छत पर 700 से अधिक पौधे लगाए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...