10वीं में मात्र 44.5 प्रतिशत अंक पाने वाले, मोमबत्ती की रौशनी में पढ़कर बने आईएएस ऑफिसर – कहानी प्रेरणादायक।

IAS Awanish Kumar Sharan Biography

सफलता किसी कमी की मोहताज नही हो सकती है, कई लोग अपनी असफलताओं को ध्यान में रखते हुए खुद अपनी कामयाबी का अंदाजा लगाते हैं। इस बात को सच किया है, बिहार के अवनीश शरण (Awanish Kumar) ने जो आज एक IAS ऑफिसर के रूप में पदस्थ हुए है। आइये जानते है, इनकी सफलता के बारे में।

कौन है अवनीश शरण?

IAS Awanish Kumar Sharan Story

आज हम जिसकी बात कर रहे है, उनका नाम अवनीश शरण (Awanish Kumar IAS) है। यह मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर के एक छोटे से गाँव केवटा के रहने वाले हैं। इनका बचपन काफी संघर्षपूर्ण रहा है, वें पढ़ाई के दौरान शुरुआती समय में ज्यादा दिलचस्पी नहीं रखते थे, लेकिन बाद में उन्होंने पढाई में काफी मेहनत की।

10वीं में उन्हें मिले थे 44.5% मार्क्स

IAS Awanish Kumar Sharan Story in hindi

आपको बता दे की बचपन में अवनीश शरण पढने में ज्यादा अच्छे नही थे उन्हें 10वी की एग्जाम में बहुत ही कम नंबर मिले थे। अवनीश शरण  ने अपनी 10वीं और 12वीं क्लास के बोर्ड परीक्षाओं के नंबर फेसबुक पर साझा किये है जिसमे बताया की उन्हें 10वीं में 44.5, 12वीं में 65% और स्नातक में 60.7% नंबर मिले थे।

घर पर लाईट की व्यवस्था भी नही थी

IAS Awanish Kumar Story in hindi

उन्होंने बताया है, की बचपन में काफी गरीब परिवार में वह पले बढ़े है। एक समय ऐसा था कि उनके घर में लाईट तक की व्यवस्था नहीं थी वह पढाई के लिए लालटेन का उपयोग करते थे और इसी में पढाई करते थे। लेकिन आज उनकी पढ़ाई और संघर्ष रंग लायी और उन्होंने यूपीएससी पास करके अपना लक्ष्य हासिल करते हुए आईएएस बनने में कामयाबी पायी।

इस तरह से आया आईएएस बनने का विचार?

IAS Awanish Kumar Story in hindi

अवनीश शरण ने इंटरव्यू के दोरान बताया की ‘कई बार गाँव में कोई कार्यक्रम के दौरान जब आईएएस अधिकारी आते थे तो उनका काम मुझे प्रभावित करता था। ग्रेजुएशन के दौरान एक युवा आईएएस मेरे कॉलेज में निरीक्षण के लिए पहुंचे थे, उसके बाद से उन्होंने अपना लक्ष्य आईएएस को बनाया और उसके लिए तैयारी करना शुरू कर दिया।

साल 2017 में आएं चर्चा में

IAS Awanish Kumar Story in hindi

अवनीश शरण साल 2017 में तब चर्चा में आए जब वे बतौर जिलाधिकारी अपनी पत्नी को डिलीवरी के दौरान सरकारी अस्पताल में इलाज करवाने गये। इसके बाद उन्होंने अपनी बेटी का दाखिला सरकारी स्कूल में करवाया इस कदम के बाद लोगों ने उनकी काफी सराहना की और मीडिया के माध्यम से वह आज चर्चा का विषय बन गए।

लोगों के लिए बने हैं प्रेरणा

IAS Awanish Kumar Story

उन्होंने बचपन में काफी गरीबी और संघर्ष का सामना किया है। उनकी सफलता और संघर्ष की कहानी आमजन के लिए बहुत हीं प्रेरणादायी है। उन्होंने आज उनकी सकारात्मक सोच से लोगो के दिलो में जगह बनाई है। आज वह सभी के लिए काफी प्रेरणादायक रूप में उभरे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...