नजर लागी राजा तोरे बंगले पर… निशंक खाली नहीं कर रहे और सिंधिया उसी पर अड़े, क्यों है 27 सफदरजंग रोड वाले घर की मांग

jyotiraditya scindi

मोदी सरकार के पूर्व मंत्री और मौजूदा मंत्री सिंधीय के बीच इन दिनों एक बंगले को लेकर खींचतान शुरू हो गई है। नए कैबिनेट विस्तार के बाद से हटाए गए पूर्व शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने 27 सफदरजंग रोड पर स्थित बंगले को अभी तक खाली नहीं किया है। लेकिन आपको बता दे की यह बंगला सिंधिया को दिया गया है।

Safdarjung Road

मंत्री के तौर पर उन्हें यह बंगला रहने के लिए मिला था, सरकारी नियमों के मुताबिक एक महीने में बंगले को खाली करना था। लेकिन उन्होंने अभी तक इसे खाली नहीं किया है। वह अभी भी इसी में बने रहना चाहते हैं और कहा जा रहा है कि उन्हें डायरेक्टोरेट ऑफ एस्टेट्स से इसकी परमिशन भी मिल गई है। लेकिन अब इसमें नए नागरिक उड्डयन मंत्री बने ज्योतिरादित्य सिंधिया रहना चाहते हैं। इसलिए वह भी इसी बंगले की मांग कर रहे है।

jyotiraditya scindia

आपको बता दे की सफदरजंग के मकबरे के पास लुटियन दिल्ली में स्थित इस बंगले पर सिंधिया परिवार लंबे समय से रहता रहा है। ज्योतिरादित्य सिंधिया 2019 में लोकसभा चुनाव हारने तक इसी बंगले में रह रहे थे। सिंधिया के पिता माधवराव सिंधिया भी इसी बंगले में सालों तक रहे। यहां तक कि उन्होंने इसी बंगले पर अंतिम सांस ली थी। इसी के कारण सिंधिया का भी इस बंगले से खास लगाव है और वह भी ऐसी बंगले की मांग पर अड़े हुए है। एक रिपोर्ट के मुताबिक बीते साल जब वह बीजेपी में शामिल हुए तो उन्हें तीन बंगलों का ऑफर दिया गया, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया।

Nishank

इस समय सिंधिया आनंद लोक में स्थित अपने निजी आवास में ही रह रहे हैं। इस बंगले में 1980 में माधवराव सिंधिया को राजीव गांधी की कैबिनेट में मंत्री बनाया गया था। तब उन्हें यह बंगला दिया गया था।  इसमें वह अपने कार्य करते है, बता दें कि नेताओं के बीच बंगलों को लेकर इस तरह का आग्रह नया नहीं है। नेता चिराग पासवान को भी उनके उस घर को खाली करने का आदेश दिया गया था, लेकिन उन्होंने भी अभी तक इसे खाली नहीं किया है। चिराग पासवान ने इसमें बने रहने के लिए गुहार भी लगाई थी, लेकिन उन्हें इसकी परमिशन नहीं दी गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...