Rajasthan में स्थित Kiradu Temple, जहां रात को रुकने वाले श्रद्धालु बन जाते हैं पत्थर!

Kiradu temple

आप भी जानते है की भारत को मंदिरो का देश माना जाता है, अगर भारत में मंदिर ही ना हो तो यहाँ कुछ नहीं बचेगा। आप यह भी जानते होंगे की भारत के इन मंदिरो में हर एक मंदिर का एक अलग ही रहस्य है। यहाँ हर एक मंदिर अपने अंदर एक रहस्य समेटे हुए है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको राजस्थान के एक ऐसे ही रहस्य्मयी मंदिर के बारे में बताने जा रहे है। आपको बता दे की इस मंदिर में कोई भी भक्त शाम के बाद ठहरने की हिम्मत नहीं कर पाते हैं।

Kiradu temple Rajasthan

यह मंदिर राजस्थान के बाड़मेर जिले में है और इस मंदिर का नाम “किराडू मंदिर” है। इस जगह का नाम पहले “किराट कूप” था, इस मंदिर को लोग राजस्थान का खजुराहो भी कहते है। यहाँ पर पांच मंदिरो की शृंखला है और यहाँ के बहुत से मंदिर खंडर हो चुके है। यहाँ पर शिव मंदिर और विष्णु मंदिर की हालत ठीक है। यहाँ के लोगो की मंदिर निर्माण की अलग अलग मान्यताये है।

Kiradu temple history

यहाँ कहा जाता है की एक समय इस मंदिर में ऐसी घटना घटी थी, जिससे यहाँ आज तक लोगो का खौफ बना हुआ है। कहते है की कुछ समय पहले एक साधु अपने कुछ शिष्यों के साथ इस मंदिर में आये थे और उन्होंने अपने मंदिर को एक दिन इस मंदिर में छोड़ दिया और खुद कही घूमने निकल गए। तब एक शिष्य की तबियत अचानक बिगड़ गयी तब साधु के दूसरे शिष्यों ने वहाँ के गावं के लोगो से मदद मांगी पर किसी ने उनकी मदद नहीं की। जब यह बात उनके साधु को बता चली तो वह ग़ुस्सा हो गए और उन्होंने श्राप दे दिया की शाम के बाद यहाँ के लोग पत्थर बन जाये।

Kiradu temple history in Hindi

पुराणी लोक कथाओं के अनुसार एक महिला थी, जिन्होंने उस साधु के शिष्यों की मदद की इस बात से साधु प्रसन्न हो गए। उस साधु ने उस महिला को कहा था की वह शाम होने से पहले गावं छोड़कर चली जाये और पीछे मुड़कर ना देखे। पर उस महिला ने पीछे मुड़कर देख लिया और वह भी पत्थर की बन गयी।

Kiradu temple history in Hindi

आपको बता दे की उस मंदिर के पास ही उस महिला की मूर्ति स्थापित है। तब से ही इस गावं में दहशत बनी हुई है और आज भी यहाँ की मान्यता है की इस मंदिर में जो शाम को रुकेगा वह भी पत्थर का बन जायेगा। इसलिए इस मंदिर में शाम होने के बाद कोई नहीं रुकता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...