जानकार यकीन नहीं होगा – कुल्फी वाला क्यों मिलाता है बर्फ में नमक

कुल्फी वाला क्यों मिलता है बर्फ में नमक

गर्मी का मौसम धीरे-धीरे आने लगा हैं और गली मौहल्लों में घंटी की आवाज भी आने लगी हैं। लेकिन हाल ही में दोपहर में गर्मी बढ़ने लगी हैं जिसके कारण बाजार में ठंडी चीज़ों की दुकाने लगने लगी हैं। पिछले साल कोरोना के कारण बाजार बंद था और कोरोना से बचने के लिए ठंडी चीज़े खाने पर परहेज था लेकिन इस बार फिर से सारी दुकाने खुलने लगी हैं और बाजार में दुकाने भी लगने लगी है जिसके कारण लोगो का मन होता है की वह ठंडी चीज़े खाये जिसमे खास कर कुल्फी खाने के लोग बहुत ज्यादा शौकीन हैं। लेकिन आज कल के समय में कोई भी गर्मी में घर से बहार निकलना पसंद नहीं करता है। और सोचता है की मौहल्ले में आएगा तो ले लेंगे।

क्यों नहीं पिघलती बर्फ?

कुल्फी वाले की खास कर एक पहचान होती है उसके ठेले पर घंटी लगी होती हैं जिसकी आवाज सुन कर हर कोई समझ जाता है की कुल्फी वाला आ गया हैं। आपने देखा होगा की कुल्फी वाला एक ठेला ले कर आता है जिस पर एक मटका होता है जिसमे बर्फ भरी होती हैं। लेकिन फिर भी आपने कभी सोचा है की बर्फ पिघलती क्यों नहीं हैं। आपने कभी सोचा ही नहीं होगा क्योकि आपको तो सिर्फ कुल्फी से मतलब होता हैं। लेकिन आज हम आपको बताते है की क्यों नहीं पिघलती बर्फ।

बर्फ में इसलिए डाला जाता है नमक

Matka Kulfi

आपको जानकर हैरानी होगी की बर्फ में एक बॉक्स होता है जिसमे कुल्फी होती हैं लेकिन फिर भी बर्फ पिघलता नहीं हैं ऐसा इसलिए क्योकि बर्फ में नमक मिला होता है। अब सोच रहे होंगे की बर्फ और नमक का क्या तालमेल तो इसको जानने के लिए आपको थोड़ा विज्ञान को समझना होगा। तो चलिए बताते है आपको – हिमांक (Freezing Point), क्वथनांक (Boiling point) और हिमांक में अवनमन (Depression in freezing point) को समझना होगा। यह आपने स्कूल के समय में विज्ञान की क्लास में पड़ा होगा लेकिन लग रहा आप भूल गए है तो भी कोई बात नहीं आज हम आपको इसे पूरा समझाते हैं। जिसके बाद आप कभी नहीं भूलोगे।

हिमांक, यह वह तापमान है जिस पर कोई भी द्रव पदार्थ ठोस अवस्था में बदलने लगता हैं। सभी द्रव पदार्थ का हिमांक अलग-अलग होता हैं बात करे पानी की तो पानी का हिमांक 0 डिग्री सेंटीग्रेड हैं। यानी की 0 डिग्री सेंटीग्रेड पर पानी जमकर बर्फ बन जाता हैं। वहीं अगर देखा जाए तो क्वथनांक वह तापमान होता है जिस पर कोई भी द्रव पिघलने लगता हैं। हिमांक के जैसे ही क्वथनांक भी सभी द्रव का अलग-अलग होता हैं। जैसे पानी का क्वथनांक 100 डिग्री सेंटीग्रेड हैं। इस तापमान पर पानी उबलने लगता हैं।

अब हिमांक अवनमन का मतलब है जब किसी भी पदार्थ में कोई अवाष्पशील पदार्थ मिलाया जाता है जिसका वाष्पदाब कम होता है और हिमांक भी कम होता है। लेकिन क्वथनांक बढ़ जाता हैं। अब आप ज्यादा कंफ्यूज हो गए होंगे तो चलिए हम इसे आपको आसान भाषा में समझाते हैं। बर्फ में नमक मिलाने से बर्फ का क्वथनांक बढ़ जाता हैं जिसकी वजह से बर्फ जल्दी नहीं पिघल पाती हैं। इसी वजह से कुल्फी वाला बर्फ में नमक मिला देता है जिसकी वजह से बर्फ जल्दी नहीं पिघलती हैं और कुल्फी वाले का भी फायदा हो जाता हैं।

ऐसा करने से कुल्फी वाले की ना तो कुल्फी पिघलती है और ना ही बर्फ। लेकिन मजे की बात तो ये है की कुल्फी वाले को भी यह विज्ञान खुद नहीं पता होता है उसे नहीं पता होता है की वह रोज बर्फ का कितना क्वथनांक बढ़ा रहा हैं।

यह भी पढ़े : बड़े भाई है प्रदेश के मुख्यमंत्री और बहन बेचती है चाय, जिन्हें हर कोई करता है नमन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...