Mary Kom ने भारत ही नहीं पूरे विश्व को जय हिंद बोलने पर किया मजबूर – कुछ ऐसा किया जिसे कोई नहीं कर सका।

Mary Kom

वर्तमान में चल रहे टोक्यो ओलंपिक में एक से एक मुलाबले आपको देखने को मिल जायेगे, जिसमे कई खिलाडी की हर हो जाती है और कई खिलाडी मैडल जत कर अपने देश का नाम रोशन कर रहे है। लेकिन आज मेरीकोम ने मैच हारने के बाद भी अपने देश का नाम रोशन किया है।

Mary Kom

मेक्केबज़ी में शय और मात का खेल चलता रहाता है, लेकिन जो इस टोक्यो ओलंपिक ने भारत की तरफ से देखा है वो इतिहास में दर्ज हो गया है। इस सब का क्रेडिट किसी को दिया जाता है, तो वह बॉक्सर मैरी कॉम हैं। सभी सोच रहे है की मैरी कॉम तो अपना मैच हार गयीं थीं फिर कैसे इतिहास लिखा गया? तो आपकी बात भी शत प्रतिशत सच है।

Mary Kom

मेरीकॉम महिला फ्लायवेट स्पर्धा की 51 किलोग्राम वेट कैटेगरी में सुपर मॉम एमसी मैरी कॉम भले ही कोलंबिया की मुक्केबाज विक्टोरिया इनग्रिट वेलेंसिया से हार गईं हों लेकिन जिस तरह का प्रदर्शन और मैच के बाद जैसा एटीट्यूड मैरी का रहा ये कहना गलत नहीं है कि, वाह मैरी कॉम! तुमने भले ही हार का मजा चखा हो मगर तुम्हारा मैच ऐसा था जिसे दुनिया के हर खिलाड़ी को बार बार देखना चाहिए। 

हार के बावजूद जो मैरी कॉम ने रिंग में किया है भारत का सीना चौड़ा

यह बात राष्ट्रवाद की हांडी में पकाकर नहीं कह रहे वाक़ई मैरी ने अपने आखिरी मैच में कुछ इस तरह का प्रदर्शन किया है, जो देखने लायक है। मैच प्री क्वार्टर फाइनल मैच में कोलंबियाई बॉक्सर ने भारतीय बॉक्सरएमसी मैरी कॉम को 3-2 से हराया। मैरी के मैच के वो अंति कुछ मिनट ऐतिहासिक हैं और ये ऐतिहासिक क्यों हैं इस कथन के लिए हमारे पास जवाब है। जब हार की घोषणा की गयी तब मेरीकॉम कोलंबियाई खिलाड़ी के गले लगीं, जिस तरह खुद मैरी ने उन्हें विजेता घोषित किया जैसे उन्होंने जजों और मैच रही जनता का अभिवादन किया हो। इस कद का कोई खिलाड़ी इस तरह इतना भी हम्बल हो सकता है, यह हमे इस मैच में देखने को मिला है। 

उन्होंने दिखाया की खिलाड़ी को कैसा होना चाहिए, देश की इस बेटी के अंदाज पर देश को नाज है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...