मेवात जहां हिन्दू होना बन गया गुनाह। 103 गांव हिंदू विहीन हो गए और 90 गांव 5 से कम हिंदू परिवार बचे – देखिये रिपोर्ट।

Mewat

आज वर्तमान में हिन्दुओ की मेवात में स्थति देखकर आख़िर क्यों कहना पड़ रहा कि धर्मों रक्षित रक्षितः इसके बारे में हम आपके लिए लेकर आये है, एक विशेष रिपोर्ट।

हाल ही में पद्मश्री डॉ आरएन सिंह को विश्व हिन्दू परिषद का नया अध्यक्ष चुना गया है। यह काफी समय से हिन्दू धर्म को बचाने के लिए कार्य कर रहे है। उनका पूरा नाम डॉ. रविंद्र नारायण सिंह है। इन्होने फरीदाबाद के मानव रचना विश्वविद्यालय के सभागार में शनिवार को आयोजित विश्व हिंदू परिषद की केंद्रीय प्रबंध समिति में चुनाव किया गया। इसकी जानकारी परिषद के केंद्रीय संयुक्त महामंत्री सुरेंद्र जैन ने दी।

mewat hindu

इस कार्यक्रम के दौरान सुरेंद्र जैन ने द्वारा बताया गया की “हरियाणा का मेवात जो कभी भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का स्थान रहा है, आज वहा कुछ अलग ही स्थति देखने को मिल रही है। मेवात में महाभारत कालीन कई तीर्थस्थल हैं, जहा पर जिहादियों द्वारा कब्जा किया जा रहा है और वहा के हिन्दुओ को डराया जा रहा है। कुछ ऐसे मंदिर भी है, जहा हिंदू प्रवेश भी नहीं कर सकता। वह स्थान जो बीसवीं शताब्दी के प्रारंभ में हिंदू बहुल था आज धर्मांतरण के कुचक्र में फंस गया है।”

mewat

उन्होंने बताया की जेहादी तत्व द्वारा हिंदुओं पर अकल्पनीय व अमानवीय अत्याचार कर रहे हैं। इसमें लड़कियों के अपहरण, छेड़खानी व शीलभंग की घटनाएं भी होती रहती है। उन्होंने कहा की हरियाणा में गो हत्या प्रतिबंध होने के बाद भी यहां पर अब भी खुलेआम गायों की हत्या की जा रही है। जिन्हे रोकने वाला कोई भी नहीं है। आज वहा हिन्दू खतरे में है। इसलिए मेवात के कई इलाकों से हिंदू पलायन कर दूसरी जगह पर रहने के लिए चले गए है।

बहुत कम लोग बचे है गांवो में

mewat History

इस सभा में उन्होंने बताया है की मीडिया रिपोर्ट और पूर्व न्यायाधीश पवन कुमार की माने तो 104 के क़रीब गाँव से हिंदू बिल्कुल मेवात से गायब हो चुके हैं, उनका अभी कोई पता नहीं की वह कहा जाकर बसे है। यहां 84 गाँव ऐसे हैं, जहां 4-5 की संख्या में ही हिंदू परिवार बचे हुए है। और वह भी इनके द्वारा परेशान किये जा रहे है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पवन कुमार कहते हैं कि मेवात में तकरीबन 500 गाँव हैं। लेकिन इनमें एक तिहाई गाँवों में से हिंदू गायब हो चुके हैं। अब यहां पर हिन्दुओ की संख्या काफी कम हो चुकी है।

उनका कहना है की हिंदू स्वाभिमान के साथ रह सके इसके लिए सभी हिन्दुओ को एकत्र होना आवश्यक है और यहां के लिए कुछ जरूर कदम भी उठाये जाना चाहिए। विहिप ने बताया की मेवात के निकटस्थ हिंदू समाज से अपील करती है कि उन्हें अपने हिंदू भाई बहनों की रक्षा के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए। हिंदुओं से भी विहिप आह्वान करती है कि हिंदू की पहचान ‘पलायन नहीं पराक्रम’है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...