22 किलोमीटर का सफ़र करके बदला लेने के लिए पहुंचा बंदर, वन विभाग को ख़बर देने से था नाराज।

Monkey news

अभी तक हम सभी ने इंसान को दूसरे इंसान से बदला लेते हुए देखा है। लेकिन आज हम आपको एक बंदर के बदला लेने के बारे में आपको बताने जा रहे है, जो बदला लेने के लिए 22 किलोमीटर का सफर तय करके आया है। आइये जानते है, इस बंदर के बारे में।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, ज़िला चिकमगलूर, कर्नाटक के कोट्टिघेरा गाँव की यह घटना है। यहां Bonnet Macaque प्रजाति का एक बंदर गाँव में लोगो के लिए डर का दूसरा नाम बन गया है। इस बंदर की उम्र 5 साल है। यह यहा के लोगो से फल और खाने पिने की चीज़ें छिन रहा था। इससे अभी लोग परेशान हो गये थे।

Monkey Revenge

यह बच्चो के स्कूल तक भी जाने लगा था जिससे बच्चे ज्यादा डरते थे। इसके बाद इस बंदर की शिकायत लोगो ने वन विभाग को दे दी, उसके बाद इसे पकड़ने के लिए टीम पहुंची। बंदर को पकड़ना वन विभाग के लिए भी आसान नही था। अधिकारियों ने ऑटोरिक्शा वालों और अन्य लोगों से मदद मांगी और बहुत मशक्कत के बाद बंदर को पकड़ा।

Monkey Revenge in karnataka

एक ऑटोरिक्शा चालक, जगदीश भी मदद के लिए पहुंचा था, परेशान बंदर ने जगदीश पर हमला कर दिया जिसके बाद जगदीश भाग गया। उसके बाद 30 लोगों की मदद से 3 घंटे के बाद उसे पकड लिया गया। और उसे गांव से 22 किलोमीटर दूर बालुर जंगल में छोड़ दिया।

एक हफ़्ते बाद बंदर गांव वापस लौट आया

_Monkey Revenge in karnataka News

लेकिन बंदर अभी गया नही था, वह 1 हफ्ते बाद वापस गाँव में लोट आया। बंदर बालुर जंगल के पास से जा रहे ट्रक पर चढ़ा और कोट्टिघेरा गांव तक पहुंचा। उसके बाद उसने दोबारा जगदीश पर हमला कर दिया। जगदीश का कहना है की यह उसने बदला लेने के लिए किया है। इसके बाद दोबारा वन विभाग ने दूसरी बार बंदर को 22 सितंबर को पकड़ा और दूर-दराज़ के जंगल में छोड़ आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...