MS Dhoni की वजह से इन 3 विकेटकीपर्स को नहीं मिली टीम में जगह! मजबूरी में 2 ने लिया संन्यास

ms dhoni naman ojha dinesh kartik

कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) अपनी करिश्माई कप्तानी और आतिशी बल्लेबाजी के लिए पुरे विश्व में जाने जाते है। धोनी ने अपनी सूझ बुझ और शातिर दिमाग से टीम इंडिया को हरे हुए मुकाबले जीताये है। वे दुनिया से सबसे बड़े फिनिशर बनकर उभरे है, उन्होंने विकेटकीपर नाम की परिभाषा को ही बदल दिया है, लेकिन जब तक धोनी टीम इंडिया के लिए विकेटकीपर बने रहे तब तक किसी और विकेटकीपर का टीम में आना बड़ी बात थी। आज हम बात करने वाले है ऐसे विकेटकीपर की जो की महेंद्र सिंह धोनी के कारण टीम इंडिया में अपनी जगह पक्की नही रख पाए, 2 प्लेयर्स ने तो मज़बूरी में ही ले लिया सन्यास।

पार्थिव पटेल (Parthiv Patel) 

पार्थिव पटेल ने अपना टेस्ट डेब्यू इंग्लैंड के खिलाफ 2002 में किया था, उस समय वे केवल 17 साल के ही थे। पार्थिव पटेल भारत की और से टेस्ट में डेब्यू करने वाले सबसे युवा विकेटकीपर बल्लेबाज बने थे। पार्थिव पटेल इंडिया टीम में महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) से पहले आये थे लेकिन उनके ख़राब फॉर्म के चलते वे अपनी जगह नही बचा सके।

दिनेश कार्तिक (Dinesh Kartik)

दिनेश कार्तिक को सेलेक्टोर्स ने हमेशा से ही नजरअंदाज किया गया है, उन्हें कभी उतने मौके नही मिले जितने महेंद्र सिंह धोनी को उनके कार्रेअर की शुरुआत में मिले है। धोनी के खेल के आगे इस खिलाडी को प्रदर्शन छिप गया।

नमन ओझा (Naman Ojha)

नमन ओझा के नाम रणजी ट्राफी में सबसे ज्यादा शिकार करने का रिकॉर्ड है उन्होंने रणजी ट्राफी में विकेटकीपर के तौर पर 351 शिकार किये है। फिर भी इस खिलाडी को टीम से बाहर रखा गया। एम् एस धोनी को हमेशा से ही नमन ओझा के उपर तरजीह दी गयी। नमन ओझा ने काफी साल टीम से बहार रहने के कारण 2021 में सन्यास ले लिया।

Back To Top
error: Please do hard work...