नीरज चोपड़ा का वो ऐतिहासिक थ्रो जिसने टोक्यो ओलंपिक में भारत को दिलाया गोल्ड मेडल – देखिये वीडियो

neeraj chopra

नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में जैवलिन थ्रो प्रतियोगता में भाग लेकर गोल्ड मेडल भारत के नाम किया है। नीरज ने भारत के लिए यह मेडल लाकर देश को गौरान्वित किया। एथलेटिक्स में 100 साल बाद देश के लिए मेडल लाकर एक नया इतिहास रचा गया हैं।

23 वर्ष के इस एथलेटिक्स ने फाइनल मुकाबले में पहले प्रयास में ही 87.03 मीटर का थ्रो फेंका जिसे देखकर भारतवासी खुशी से झूम उठे। और दुसरे थ्रो 87.58 मीटर की दूरी पर फेंका। इस थ्रो ने अपना नाम इतिहास के सुनहरे पन्नों मे दर्ज करा दिया। सभी एथलीट्स ने जी जान लगा दी पर इस थ्रो के आसपास भी नही भटके।

Neeraj Chopra Javelin throw Video

नीरज चोपड़ा के इस ऐतिहासिक थ्रो का वीडियो सोशल मीडिया पर लगातार वायरल हो रहा है और फैन्स इसकी जमकर तारीफ कर रहे हैं।

नीरज इससे पहले एशियाई खेलों, कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियाई चैंपियनशिप में भी गोल्ड मेडल अपने नाम कर चुके हैं और अब टोक्यो ओलंपिक मे भारत के लिये गोल्ड मेडल लाकर,ओलंपिक खेलों में गोल्ड लाने वाले महज दूसरे ही खिलाड़ी बन चुके है। इसके पहले भारत के लिए निशाने बाजी में पहला मेडल 2008 में अभिनव बिंद्रा द्वारा लाया गया था।

नीरज के गोल्ड मेडल के साथ ही टोक्यो ओलंपिक में भारत ने सातवां पदक अपने नाम किया, जो कि देश का ओलंपिक में अबतक का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन भी है। भारत का इससे पहले बेस्ट प्रदर्शन छह मेडल के साथ लंदन ओलंपिक में रहा था। टोक्यो ओलंपिक में भारत ने एक गोल्ड, दो सिल्वर और चार ब्रॉन्ज मेडल जीते हैं। भारत को ओलंपिक 2020 में पहला मेडल वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू ने दिलाया था। मणिपुर के इस खिलाड़ी ने सिल्वर मेडल अपने नाम किया था।

इसके बाद पीवी सिंधु ने बैडमिंटन, लवलीना बोरगोहेन ने बॉक्सिंग में देश को ब्रॉन्ज मेडल दिलाया था। पहले बार ओलंपिक खेलों में उतरे रेसलर रवि दहिया ने अपने प्रदर्शन से हर किसी का दिल जीतते हुए कुश्ती में सिल्वर मेडल अपने नाम किया। वहीं, पुरुष हॉकी टीम ने टोक्यो में 41 साल के सूखे को खत्म करते हुए ब्रॉन्ज मेडल हासिल किया। नीरज चोपड़ा के मैच से ठीक पहले भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया ने भी देश के लिए एक कांस्य पदक जीता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...