अब बाइक पर दूसरी सवारी बैठाने का नियम बदल जाएगा, अब दूसरी सवारी को ऐसे बैठाना होगा जानिए।

traffic rule

रोड पर सड़क दुर्घटना को देखते हुए यातायात के नियमो में कुछ बदलाव किये जा रहे है, जिसके तहत अब बाइक पर दूसरी सवारी को बिठाने को लेकर कुछ नियम में बदलाव किये जा रहे है। जानिये क्या बदलाव हुए है। 

पहला नियम: सीट के पीछे हैंड होल्ड का होना अनिवार्य

New Traffic rules

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की इस नई गाइडलाइन के मुताबिक नियम बनाया गया है की, अब बाइक की पिछली सीट के दोनों ओर हैंड होल्ड का होना अनिवार्य होगा। इस तरह के हैंड होल्ड पीछे बैठी सवारी की सेफ़्टी के लिए होगा। जिससे दुर्घटना के समय यह बचने में मदद करते है। यदि बाइक ड्राइवर अचानक ब्रेक लगा देता है तो यह हैंड होल्ड सवारी के लिए काफी सहायक साबित होगा। अभी जितनी भी बाइक है उसमे इस तरह की कोई सेफ्टी नहीं है।

इसके अलावा पीछे बैठने वाली सवारी के लिए दोनों तरफ पैर रखने के लिए पायदान का होना भी जरूरी है। उसके साथ ही पिछले पहिए को सुरक्षित रूप से कवर करना भी अनिवार्य हो जाएगा।

दूसरा नियम: हल्का कंटेनर लगाना होगा

New Traffic rule

सड़क नियम में बदलाव के अंतर्गत बाइक में हल्का कंटेनर लगाने के निर्देश भी दिए गए हैं। इसके तहत बाइक में लगने वाले कंटेनर की लंबाई 550 मिमी, चौड़ाई 510 मिली और ऊंचाई 500 मिमी से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। बाइक में कंटेनर पिछली सवारी की जगह लगा है, तो उस बाइक पर दूसरी सवारी को नहीं ले जाय जा सकता है। उस बाइक पर सिर्फ ड्राइवर ही सफर कर सकेगा। 

टायर को लेकर भी बनाये नियम

New Traffic rule

सरकार ने कुछ समय पहले टायर को भी गाइडलाइन की श्रेणी में लिया था। उसमे कहा गया की अधिकतम 3.5 टन वजन तक के वाहनों के लिए टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम का सजेशन दिया गया था। इससे ड्राइवर को लगातार सेंसर की सहायता से तयार में कितनी हवा बची है इसकी जानकारी मिलती रहेगी। इसके साथ ही टायर की मरम्मत के लिए वाहन में किट होना भी अनिवार्य किया था। यदि ये नए नियम लागू हो जाते हैं तो गाड़ी में एक्स्ट्रा टायर रखने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

आपको बता दे की यह पहली बार नहीं है जब सरकार ने यातायात और वाहनों से जुड़े नियमों में फेरबदल किया हो। इनके द्वारा समय समय पर वाहनों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए नियम बदलती रहती है। लेकिन आम जनता द्वारा इन सभी नियमो को लेकर गंभीरता बहुत कम होती है, जिसके कारण सड़क दुर्घटना बढ़ती है। अब ये आम जनता की भी जिम्मेदारी है कि वे इन नियमों का ईमानदारी से पालन करें और सुरक्षित रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...