सलाम है ऐसे पिता को जिसने रिक्शा चला कर पैसे कमाए और बेटे को बनाया IAS और बहू भी IPS लाया

Baap ne Mehnat se bete ko banaya IAS

काशी में रहने वाले नारायण जायसवाल ने बताया की कैसे उन्होंने रिक्शा चला कर अपने बेटे को IAS बनाया। आईये हम आपको बताते हे रिक्शा वाले की संघर्ष की कहानी। नारायण ने बताया की उनके चार बचे हैं, तीन लड़कियां और एक लड़का उन्होंने बहुत संघर्ष करके अपने बेटे को IAS बनाया और उनकी बहु IPS अफसर हैं। एक टाइम था जब नारायण के पास 35 रिक्शा थे, जिन्हे वह किराये पर चलवाते थे।

लेकिन उनकी पत्नी इंदु को ब्रेन हेम्रेज होने के बाद उनके इलाज के लिए उनको 20 रिक्शे बेचने पड़े थोड़े दिन बाद उनकी पत्नी की मौत्त हो गयी, तब उनका बेटा गोविन्द 7th क्लास में था। गरीबी इतनी थी की उनका परिवार दोनों टाइम सुखी रोटी खाता था। जब नारायण रिक्शे में गोविन्द को स्कूल छोड़ने जाते थे तो लोग उन्हें कहते थे “रिक्शे वाले का लड़का”। जब नारायण किसी को बोलते थे की वो अपने बेटे को IAS बनाएंगे तो लोग उन पर हसते थे।

नारायण ने बताया की बचे हुए रिक्शे बेच कर उन्होंने उनकी लड़कियों की शादी करदी। नारायण के पास सिर्फ एक रिक्शा बचा था जिसे चला कर वह घर चलाते थे। उन्होंने बताया की पैसों की कमी के कारण गोविन्द सेकंड हैंड बुक से पड़ता था। गोविन्द जायसवाल 2007 की बेच के IAS अफसर हैं। इस समय वह गोवा में सेक्रेट्री फोर्ट, सेक्रेट्री स्किल डेवलपमेंट और इंटेलिजेंस के डायरेक्टर जैसे 3 पदों पर हैं।

2006 में हरिशचंद्र यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन के बाद सिविल सर्विस की तैयारी के लिए दिल्ली चले गए और वहाँ उन्होंने पार्ट टाइम जॉब करके अपनी टूशन्स का खर्चा उठाया। गोविन्द की मेहनत का फल उन्हें मिला वह फर्स्ट अटेम्प्ट में ही 48 वीं रैंक के साथ IAS बन गए। गोविन्द की बड़ी बहन ममता ने बताया की उनका भाई शुरू से ही पढ़ने में तेज़ हैं। पैसों की कमी और माँ के देहांत के बाद भी उन्होंने पढ़ाई नहीं छोड़ी। उनकी बहन ने कहा की उनकी पढ़ाई का खर्च भी उनके पापा बड़ी मुश्किल से भेज पाते थे।

उनकी बहन ममता ने बताया की 2011 में जब गोविन्द नागालैंड में पोस्टेड थे, तब ममता के पति ने चंदना का रिश्ता बताया था। चंदना 2011 में ही IPS सिलेक्ट हुई थी। ममता का कहना हे की लोगो को लगता हे की गोविन्द और चंदना की लव मेर्रिज हैं पर ऐसा नहीं हैं। जब गोविन्द घर लौटे तब उनके सामने चंदना से शादी का प्रस्ताव रखा गया फिर ममता और गोविन्द ने साइबर जा कर चंदना की प्रोफाइल सर्च की और उन्हें चंदना पसंद आ गयी।

गोविन्द को देखने उनके घर चंदना की नानी आयी थी और उन्होंने गोविन्द को देख कर कहा की यह वहीं लड़का हे जिसका पेपर में फोटो आया था रिक्शे वाले का लड़का IAS, उन्होंने कहा की यह जिंदगी में बहुत नाम कमायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...