बच्चे ने बनाई ऐसी मशीन जिससे रोपें कई तरह के बीज, छात्र के अविष्कार को मिला बालशक्ति पुरस्कार।

avishkar

कृषि करने के लिए कई तरह की बड़ी मशीनों का उपयोग किया जाता है। लेकिन वह बहुत ही महंगी होती है, अगर कोई खरीद भी ले तो जरुरी नहीं कि मशीन किसानों की जरूरत के हिसाब से ही काम करे। ऐसी समस्या के चलते 16 साल के एक छात्र ने ऐसी मशीन बनाई जो एक साथ कई तरह के बीजो को खेतो में लगा सकती है।

यह लड़का कर्नाटक के दक्षिण कन्नडा के पुत्तुर में रहने वाले राकेश कृष्ण के. मंगलुरु के एक्सपर्ट पीयू कॉलेज में 12वीं कक्षा का छात्र हैं। इसने पढ़ाई के साथ-साथ किसानों के लिए एक खास तरह की मशीन बनाई है। इस मशीन के द्वारा आसानी से कई तरह की फसलों के बीजों की रोपाई कर सकते हैं। इसके साथ ही यह मशीन और भी कई कार्यो को करती है।

मशीन का नाम रखा सीडोग्राफर

Seed sowing machine

मीडिया में उसने बताया की अपनी मशीन को ‘सीडोग्राफर’ नाम दिया है। इसके लिए उसे नवाचार के लिए उन्हें कई पुरस्कार भी मिले हैं। इस मशीन के लिए 2021 का प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बालशक्ति पुरस्कार भी शामिल है। राकेश ने बताया हमारे घर में एक पुराना ‘ड्रम सीडर’ है। लेकिन यह कभी भी बहुत प्रभावी ढंग से खेती में काम नहीं आया इसी कारण मुझे लगा कि खेती के लिए कोई ऐसी मशीन होनी चाहिए जिसे किसान सिर्फ एक नहीं बल्कि कई कामों के लिए इस्तेमाल में ले सकें।

11 साल की उम्र से ही शुरू कर दिया था मशीन पर काम

Seed sowing machine made by child

राकेश ने इस मशीन को बनाना बहुत ही कम उम्र में शुरू कर दिया था। मशीन बनाने की प्रेरणा उन्हें अपनी बड़ी बहन रश्मिपार्वती से मिली। उनकी बहन बायोलॉजी के क्षेत्र में जर्मनी से पीएचडी कर रही हैं। साल 2015 में राकेश ने अपने इस प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया। ‘सीडोग्रॉफर’ मशीन को मुख्य रूप से रोपाई के लिए तैयार किया गया था। लेकिन इसमें कुछ सालो में बदलाव करके यह मल्टीपर्पज मशीन की तरह इस्तेमाल के लिए बनाया गया।

मशीन के लिए मिले कई राष्ट्रीय पुरस्कार

Seed sowing machine

राकेश को इस अविष्कार के लिए केंद्र सरकार के विज्ञान और तकनीक विभाग द्वारा आयोजित नैशनल ‘इंस्पायर अवॉर्ड’ भी जीता है। इसके अलावा, उन्हें 2017 में नेशनल इनोवेशन फेस्टिवल के दौरान राष्ट्रपति भवन में भी तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को अपने इस अविष्कार को दिखाने का मौका मिला था। उनसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी वर्चुअल मुलाक़ात की और इस मशीन के बारे में उनसे जानकारी प्रदान की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...