शनिदेव को तेल चढ़ाने के फायदे – शनिवार के दिन तेल से करें यह उपाय सभी मनोकामनाएं होंगी पूरी।

Shani dev

शनिवार का दिन शनिदेव का दिन होता है। आपने देखा होगा की कई लोग इस दिन शनिदेव पर तेल चढ़ाने जाते है। हम आज आपको शनिदेव पर तेल चढ़ाने के फायदे और इन्हे किस तरह से चढ़ाना है इसके बारे में बतायेगे। 

शनिदेव पर तेल चढ़ाने के कई फायदे होते है। इन पर अलग अलग प्रकार के तेल चढ़ाने से अलग अलग प्रभाव होता है। इसके साथ ही मानव जीवन में भी तेल का काफ़ी महत्व होता है। ज्योतिष शस्त्र के अनुसार शनिदेव लोगों को उनके कर्मफ़ल के अनुसार न्याय प्रदान करते है। यदि किसी की कुंडली में शनि की स्थिति नकारात्‍मक होती है, तो उसे तेल चढ़ाने से फायदा मिलता है। 

तेल के अलग अलग महत्व और फायदे  –

चमेली का तेल

Chameli ka tel

हर मंगलवार या शनिवार को हनुमान जी और शनिदेव को चमेली का तेल चढ़ाना काफी फायदेमंद साबित होता है। यह तेल दोनों को चढ़ाया जाता है, जिसके कई शुभ फल आपको प्राप्त होते है। अगर कोई हनुमानजी को तेल या चोला चढ़ाकर प्रसन्न कर लेता है तो शनिदेव की टेढ़ी नज़र से वह व्यक्ति बच जाता है।

सरसों का तेल

Sarso ka tel

यदि आपका काम नहीं चल रहा है, या आपका काम बिगड़ता जा रहा है, तो आप शनि देव को एक कटोरी में सरसों का तेल लेकर उसमें अपनी छाया देखकर उसे शनिवार के दिन शाम को शनि देव के मंदिर में रख आएं। इससे आपके ऊपर शनिदेव की कृपा बनी रहेगी और आपके सभी काम सफल हो जायेगे। 

तिल का तेल

Tilli ka tel

ज्योतिष के अनुसार यदि आप 41 दिन तक रोजाना पीपल के पेड़ के नीचे तिल के तेल का दीपक लगाते है, तो आपको किसी तरह की कोई बीमारी नहीं होती है और असाध्य रोगों में बहुत लाभ मिलता है। इससे आपके शरीर की सभी समस्याओ से छुटकारा मिलता है। पीपल के नीचे दीपक प्रज्वलित करने से और भी कई तरह के फायदे आपको मिलते है। 

अन्य उपाय

Upay

किसी इंसान को यदि शारीरिक कष्ट हो तो, उसे शनिवार को सवा किलो आलू और बैंगन की सब्जी सरसों के तेल में बनाकर, सवा किलो आटे की पूरियां सरसों के तेल में बनाकर गरीब लोगों को भोजन कराना चाहिए। यह उपाय आपको लगातार 3 शनिवार तक करना होता है। इसके साथ ही धन प्राप्ति के लिए सरसों के तेल के दीपक में लौंग डालकर हनुमानजी की आरती करें। यह आपको लक्ष्मी प्राप्ति के योग को बनाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...