पिता की दिक्कतों को देख 13 साल के बच्चे ने बनाई खुद की कम्पनी, आज पहुची 100 करोड़ टर्नओवर पर

Tilak Mehta Success Story

आज हम आपको 13 साल के बच्चे के स्टार्टअप की कहानी को बताने जा रहे है, जो की आज युवाओ के बीच प्रेरणा बना हुआ है। इसके एक आईडिया ने 100 करोड़ की कम्पनी को खड़ा किया है। इसके इस साहस की आज हर कोई तारीफ कर रहा है। यह अभी महज 13 साल का है जिसने इस कामयाबी को पाया है।

Tilak Mehta Success Story in Hindi

आज हम बात कर रहे है, 13 साल के तिलक मेहता की, जो अन्य बालकों की तरह ही है लेकिन इनके सोचने की क्षमता अन्य लोगो की तुलना में थोड़ी अलग है। यह आठवीं कक्षा में पढ़ते हैं और पिता के काम से देर से लौटने की शिकायत रखते हैं।

Tilak Mehta dabbewala Success Story in Hindi

इन्होने एक लॉजिस्टिक स्टार्टअप की शुरुआत की है और इनका लक्ष्य था 2020 तक 100 करोड़ रुपये का राजस्व हासिल करना है। इस काम के लिए उन्होंने मुंबई के डिब्बावालों को भी अपने साथ काम करने के लिए शामिल किया है। इनका उद्देश्य लोगो तक समय पर सामान की पहुंच सुनिश्चित करना है।

इस तरह से आया आईडिया

Tilak Mehta dabbewala Success Story

तिलक ने बताया की ‘पिछले साल मुझे शहर के दूसरे छोर से कुछ किताबों की तत्काल जरूरत थी। पिता काम से थके हुए आए, सो मैं उनसे कह नहीं सका और कोई दूसरा ऐसा था नहीं जिसे कहा जा सकता था।’ उसके बाद से उन्हें किसी को समय पर सामान पहुचाने की जरूरत महसूस हुई।

उसके बाद उन्हें ऐसा स्टार्टअप शुरू करने की प्रेरणा मिली जो शहर के अंदर एक ही दिन में कागजातों तथा छोटे पार्सलों की डिलिवरी कर सके। उन्होंने अपने इस आईडिया को पिता विशाल से साझा किया, जिन्होंने इसकी जरूरत समझी।

उसके बाद उन्होंने पेपर एंड पार्सल कम्पनी की शुरुरात की, इसने बहुत ही जल्दी मुंबई में 24 घंटे में समाना पहुचने वाली कम्पनी में अपना नाम शामिल करवा लिया। उन्हें इसके लिए पिछले वर्ष सफल उद्दमी का ख़िताब भी दिया गया है। यह आज लोगो को सबसे सस्ती कुरियर कम्पनी के रूप में सर्विस प्रदान कर रहे है।

लॉजिस्टिक्स बाजार में 20% हिस्सेदारी का लक्ष्य बनाया

तिलक ने कहा , ‘पेपर्स एन पार्सल्स मेरा सपना है और मैं इसका कारोबार बड़ा करना चाहता हूँ। इनका उद्देश्य शहर के भीतर लॉजिस्टिक्स बाजार के 20 प्रतिशत हिस्से पर कब्जा करना है। और इसे बाद में मुबई से बढ़कर पुरे देश में सेवाए देने का है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...