इंदिरा गाँधी ने 6 महीने पहले ही तैयार कर ली थी आपातकाल की रूपरेखा। जानिये क्या था गांधी परिवार का इसके पीछे उद्देश्य।

Emergency 1975

भारत की सबसे काली रातों में से एक है, यह तारिक 25 और 26 जून की रात थी जब देश में आपातकाल लागू किया गया था। यह आपातकाल आजादी 28 साल बाद ही लागू कर दिया गया था। प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने इसका फैसला लिया था, और देश को आपातकाल के माहौल से गुजरना पड़ा था। राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद के हस्ताक्षर से साथ देश में आपातकाल लागू हो गया था। इसके बाद इंदिरा गांधी ने रेडियो पर बताया कि, देश वासी भाइयों और बहनों सुनो राष्ट्रपति जी ने आपातकाल की घोषणा कर दी है, पर आप को डरने की जरूरत नहीं है। जिसकी कहानी गांधी परिवार ने 6 महीने पहले ही लिख दी थी।

बड़े नेताओं को जेल में डाल दिया था।

Congress Motive behind emergency

आपातकाल की घोषणा के कारण नागरिको के मौलिक आधिकारो को बंद कर दिया था। इनसे अभिव्यक्ति का अधिकार भी चीन लिया गया था, 25 जून रात्रि के समय में विपक्षी नेता जॉर्ज फर्नाडीस, जयप्रकाश नारायण, लालकृष्ण आडवाणी, अटल बिहारी वाजपेयी और भी कई बड़े नेताओं को जेल में डाल दिया था। आपातकाल के बाद पुलिस और प्रशासन की कई उत्पीड़न की बाते सामने आई। बिना सेंसरशिप अधिकारी के अनुमति के कोई समाचार पत्र नहीं छाप सकता था। सरकार के विरोध में छापने पर गिरफ्तारी की जा सकती थी।

इमरजेंसी लगाने का फैसला ले लिया।

Emergency 1975

इसका प्रमुख कारण इंदिरा गांधी में अपनी पार्टी को 1971 के चुनाव में बहुत बड़ी जीत दिलाई थी। इंदिरा गांधी की जीत पर कई सवाल उठे हैं, उसमें के प्रतिद्वंदी राज नारायण ने जो कि रायबरेली लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे थे, उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी ने यह चुनाव जीतने के लिए गलत तरीकों का उपयोग किया गया है। इसलिए राज नारायण कोर्ट का दरवाजा खटखटाया अपील की, जब मामले की सुनवाई हुई तो इस चुनाव को निरस्त कर दिया गया।

Indira Gandhi Emergency 1975 Planning

यह फैसला इंदिरा गांधी को मंजूर नहीं हुआ और उन्होंने इमरजेंसी लगाने का फैसला ले लिया।आपको बता दें ,कि उन्होंने बिना किसी कैबिनेट की औपचारिक बैठक के देश में आपातकाल लगाने की अपील की राष्ट्रपति से कर डाली थी। जिस पर राष्ट्रपति राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद ने 25 और 26 जून को रात्रि में हस्ताक्षर कर डालें, और इसके बाद देश में पहला आपातकाल शुरू हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...