टोल प्लाजा से बचने के लिए नजदीकी ग्रामीणों ने निकाला अनोखा तरीका, जिसे जान हैरान हो जाओगे।

karnataka bus news

कर्नाटक के हेजामदी टोल प्लाजा का एक ऐसा मामला जहां ग्रामीणों को टोल टैक्स मे छूट मिलने के कारण आसपास के रहवासियों ने खोज निकाला नया रास्ता। ग्रामीणों के अनुसार अधिकारियों ने गांव से आने वाली बसों, यात्रियों को टोल टैक्स मे छूट देने का वादा किया और उसे पुरा नही किया। इस पर ग्रामीणों ने टोल बूथ के समानांतर टोल फ्री रोड बनाकर उसे बायपास कर दिया।

Toll Plaza Fastag

देश मे हाईवे पर बने टोल प्लाजा को हटाने के लिए सरकार की ओर से FASTag को अनिवार्य कर दिया गया है। सरकार के इस फैसले से कुछ लोग खुश है ओर उनका मानना है कि सरकार के इस बदलाव का नतीजा यह होगा कि हाईवे पर वाहनों की लंबी लाइनें ख़त्म हो जाएगी। लेकिन इस फैसले के परिणामस्वरूप कुछ लोग नाखुश भी हैं, क्योंकि पहले टोल प्लाजा के पास वाले शहर या गांव के लोगों के लिए टोल प्लाजा को टोल टैक्स से छूट दी गई थी, जिसे फास्टैग के आने के कारण बंद कर दिया गया है।

Toll Plaza Fastag

सरकार के ऐसे फैसलों के कारण आये दिन आसपास रहने वाले लोगों और टोल कंपनियों के कर्मचारियों के साथ झड़प के मामले सुनने को मिलते हैं लेकिन कर्नाटक के इस मामले मे लोगों ने टोल से बचने के लिए टोल बूथ को बायपास करने का एक समानांतर तरीका बनाया है।

नतीजतन, स्थानीय लोगों और टोल कंपनियों के कर्मचारियों के साथ झड़प के मामले अक्सर सामने आते रहते हैं। ऐसा ही एक मामला कर्नाटक के हेजामदी टोल प्लाजा से सामने आया है। हालांकि, इस मामले में लोगों ने सुलह का रवैया अपनाने के बजाय टोल से बचने के लिए टोल बूथ को बायपास करने का एक समानांतर तरीका बनाया है।

Toll Plaza Fastag

इस नई सड़क का निर्माण मैंगलोर-उडुपी हाईवे पर किया गया। इस हाइवे पर बने टोल प्लाजा पर फास्टैग अनिवार्य होने के बाद हेजामड़ी गांव के ग्रामीणों को छूट दी गई। लेकिन यहाँ से गुजरने वाली चार बसों को टोल टैक्स में कोई छूट नहीं तो इसकी शिकायत प्रशासन से की गई। जब कोई उचित कदम आगे नही उठाया गया तो ग्रामीणों ने टोल बूथ के समानांतर टोल फ्री रोड बनाकर उसे बायपास कर दिया।

इस पूरे मामले पर गांव के रहवासियों का कहना है कि अधिकारियों ने गांव से आने वाली बसों को यात्रियों को टोल टैक्स में लेने से छूट देने का वादा किया था, जिसे अधिकारियों ने पूरा नहीं किया। वहां के लोगो ने लंबे समय इंतजार करने के बाद आपातकालीन बैठक बुलाकर यह निर्णय लिया कि जेसीबी का इस्तेमाल कर टोल बूथ के समानांतर एक अस्थायी टोल फ्री रोड बना लिया जाये। जिससे गांव के लोग टोल टैक्स से बच सके।

जब यह पूरा मामला संबंधित अधिकारी के पास पहुंचा तब उसने गांव के लोगों से बाद की लेकिन ग्रामीण ऐसा करने को तैयार नहीं थे। नतीजा यह निकला कि संबंधित अधिकारियों द्वारा ग्रामीणों को लिखित आश्वासन दिए जाने पर सड़क का काम रोक दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...