क्या है ट्रैफिक लाइट का इतिहास? लाल, हरे और पीले रंग का ही क्यों होता है उपयोग?

Traffic Signal

ट्रेफिक सिग्नल को घर से बाहर जाने पर हम कितनी बार ही देखते हैं। हमारी भाग दौड़ भरी जिंदगी से ट्रैफ़िक सिग्नल का गहरा कनेक्शन है। छोटे शहरों में इसका उतना महत्व तो नहीं होता, लेकिन बड़े शहरों में ट्रैफ़िक सिग्नल काफ़ी महत्व रखता है। कितनी ही बार हमारे दिमाग़ में भी यही सवाल होता है कि आखिर क्यों लाल ,हरे और पीले रंग का उपयोग ट्रैफ़िक सिग्नल में किया जाता है।

Traffic Signal

लाल रंग का मतलब होता है रुकना, हरे रंग का मतलब होता है चलते रहना और पीले रंग का मतलब होता है गति को धीमा करना। आइये जाने आखिर क्यों इन तीनों रंगों का उपयोग होता है और क्या है ट्रैफिक लाइट का इतिहास।

दुनिया में सबसे पहला ट्रैफिक लाइट 10 दिसंबर 1868 को लंदन के ब्रिटिश हाउस ऑफ पार्लियामेंट के सामने लगाया गया था।उस समय में ट्रैफ़िक सिग्नल में लाल और हरे दो रंगों की लाइटों का ही उपयोग किया जाता था। सबसे खास बात ये है कि उस समय इस लाइट को रात में दिखने के लिए गैस का प्रयोग किया जाता था। पहला सुरक्षित खुद चलने वाला बिजली ट्रैफिक लाइट संयुक्त राज्य अमेरिका में साल 1890 में लगाए गए थे। उसके बाद से ट्रैफिक लाइट का उपयोग दुनिया के कोने-कोने में होने लगा।

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भारत हो या फिर अमेरिका ट्रैफिक सिग्नल्स में तीन ही रंगों का उपयोग होता है। इसका कारण यह है कि लाल और हरे रंग को दिन की रोशनी में भी आराम से देखा जा सकता है। बाकी रंगों को इतनी आराम से नहीं देखा जा सकता। एक और मुख्य कारण यह भी है कि लाल रंग की वेव लेंथ दूसरे रंगों की वेव लेंथ की तुलना में ज्यादा होती है। इसलिए इस रंग को दूर से भी देखा जा सकता है। और ऐसा ही हरे रंग के साथ भी है। इसलिए दुनिया में हर जगह इन दोनों लाइटों का प्रयोग किया जाता है। वैसे सड़को के अलावा भारतीय रेलवे भी इन्ही रंगों की लाइटों का प्रयोग करता है।रेलगाड़ी को रोकने के लिए अक्सर लालबत्ती का प्रयोग किया जाता है, साथ ही हरे रंग का मतलब है गाड़ी को आगे बढ़ाएं।

इन तीनों ही रंगों का उपयोग क्यों किया जाता है आइये जाने

लाल रंग का उपयोग

Traffic Signal

लाल रंग का मतलब होता है रूकना। इस रंग को अन्य रंगों की तुलना में आसानी से और दूर से ही देखा जा सकता है। इस रंग की वेव लेंथ की ज्यादा होती है। यह रंग अन्य रंगों की अपेक्षा गाढ़ा भी होता है।

हरे रंग का उपयोग

Traffic Signal

हरा रंग प्रकृति और शांति का प्रतीक माना जाता है। ट्रैफिक लाइट में इस रंग का उपयोग इसलिए किया जाता है, क्योंकि यह खतरे के बिल्कुल विपरीत होता है। यह रंग आंखों को सुकून देता है। इसका मतलब होता है कि अब आप बिना किसी खतरे के आगे बढ़ सकते हैं।

पीले रंग का उपयोग

Traffic Signal

पीला रंग ऊर्जा और सूर्य का प्रतीक माना जाता है। यह रंग बताता है कि आप अपनी ऊर्जा को समेट कर फिर से सड़क पर चलने के लिए तैयार हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...