अगर इस दिन गलती से भी तुलसी देवी को चढ़ाया जल तो आपको लगेगा उनकी मृत्यु का पाप।

Tulsi ko jal

तुलसी का पौधा आपको हर भारतीय के घर में देखने को मिलेगा, यह हर हिन्दू के घर में मौजूद होता है। लोग तुलसी के पौधे की पूजा भी करते है, साथ ही यह औषधीय गुण से परिपूर्ण होता है। तुलसी के पौधे से कई तरह की ओषधियाँ बनाई जाती है। यहाँ तक की तुलसी के पौधे का महत्व पौराणिक कथाओं में भी है और तुलसी के पौधे का देविक महत्व भी बहुत ज्यादा है।

Vishnu bhagwan

आपने अक्सर देखा होगा लोग तुलसी के पौधे में जल चढ़ाते है और शाम के समय तुलसी के पौधे में दिया भी लगाते है। क्या आप जानते है की भगवान विष्णु को तुलसी बहुत ही प्रिय होती है, नहीं जानते होंगे। इसी वजह से तुलसी के पौधे की आराधना करने से भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी बहुत प्रसन्न होते है। यहाँ तक की जो एकादशी होती है वो भगवान विष्णु के लिए ही होती है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको यह बताने वाले है की आप कैसे भगवान विष्णु की पसंदीदा तुलसी के पौधे का कैसे ध्यान रखे।

आपकी जानकारी के लिए बता दे की किस दिन तुलसी के पौधे में जल नहीं चढ़ाना चाहिए, जिससे भगवान नाराज ना हो। इस बात का हमेशा ध्यान रखे की कभी भी रविवार और एकादशी को तुलसी के पौधे में जल नहीं चढ़ाना चाहिए। इसके पीछे का कारण यह है की कहा जाता है की इस दिन तुलसी जी भगवान विष्णु के लिए उपवास यानि व्रत रखती है और अगर ऐसे में आप जल चढ़ा देते है तो उनका यह व्रत टूट जाता है और फिर तुलसी का पौधा मुरझाने लगता हैं।

आप इस बात का अवश्य ध्यान रखे की उचित मात्रा में ही तुलसी के पौधे को जल दे जिससे पौधा खराब ना हो। अगर आप तुलसी के पौधे को एक दिन छोड़ कर भी जल देंगे तो वह खराब नहीं होगा। ठंड में पौधे को मौसम से बचाने के लिए उसके आसपास कपड़ा लपेट दे। तुलसी के पौधे को हर एक हफ्ते में पिचिंग भी करना चाहिए। पिचिंग यानि जो उसकी ऊपर की पत्तियां है वो तोड़ दे ताकि पौधा हर तरफ से बढ़े। आपने अक्सर देखा होगा की जब भी विष्णु भगवान की पूजा अर्चना होती है हर चीज में तुलसी का प्रयोग किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...