तुम कहीं की कलेक्टर हो क्या…? महिला की बात दिल पर लग गई और डॉक्टरी छोड़ किया ऐसा की बन गई IAS ऑफिसर

Priyanka Shukla

हर इंसान के जीवन में कुछ न कुछ ऐसी घटनाएँ ऐसी घट जाती है जिससे की वह इंसान टूट जाता है या फिर वो बहुत बड़ा इंसान बन जाता हैं। बस यह बात उस इंसान पर निर्भर करती है की वह इंसान उस बात को किस तरह से अपने जीवन में उतारता हैं। कोई इंसान किसी बात को कमजोरी बना लेता है तो कोई ताकत। लेकिन हर इंसान को किसी भी परिस्थिति में अपने आप को कमजोर नहीं समझना चाहिए। आज हम ऐसी ही एक प्रेरणादायी घटना को बताने वाले है जिससे आपको एक सीख मिलेगी।

आज हम आपको छत्तीसगढ़ की एक ऐसी ही कहानी बताने वाले है जिसमे एक महिला डॉक्टर को किसी महिला ने यह बोल दिया की तुम कहीं की कलेक्टर हो क्या ? यह बात महिला डॉक्टर प्रियंका शुक्ला (Priyanka Shukla) को बहुत बुरी लगी और वह डॉक्टरी छोड़ IAS ऑफिसर बन गई। इस घटना में महिला डॉक्टर ने अपने आप को किसी से कम ना समझते हुए अपने आप को मजबूत समझा।

आखिर क्यों बनना पड़ा डॉक्टर को IAS ऑफिसर

दरअसल हुआ यूँ की प्रियंका शुक्ला ने लखनऊ में अपनी MBBS की डिग्री हासिल करने के बाद वहीं पर प्रैक्टिस शुरू कर दी थी। प्रैक्टिस के दौरान प्रियंका लखनऊ की झुग्गी – झोपड़ी में लोगो के चेकअप करने पहुंची थी जहां पर प्रियंका ने देखा की एक महिला अपने बच्चे को गन्दा पानी पीला रही थी और साथ में वह भी पी रही थी। यह देख प्रियंका से रहा नहीं गया और उसने उस महिला से पूछा की गन्दा पानी क्यों पी रही हो और बच्चे को क्यों पीला रही हो? यह सुनकर महिला को बुरा लग गया और उसने डॉक्टर प्रियंका शुक्ला को ग़ुस्से में बोल दिया की तुम कहीं की कलेक्टर हो क्या…?

यह बात डॉक्टर प्रियंका शुक्ला को दिल में चुभ गई और प्रियंका ने मन ही मन में ठान लिया की अब कुछ भी हो जाए आईएएस ऑफिसर अवश्य ही बनूँगी। जिसके बाद प्रियंका बिना समय गवाए उपस्क की तैयारी में लग गई। लेकिन प्रियंका एक परीक्षा देने पर सफल न हो पाई लेकिन 2009 में प्रियंका ने दूसरी बार फिर से परीक्षा दी और वह उसमे सफल हो गई।

इस कहानी से आपको क्या प्रेरणा मिली यह हमे जरूर कमेंट में बताए और अपने दोस्तों और परिवार वालो में भी इस सफल कहानी को शेयर करे ताकि वह भी अपने जीवन में किसी ऐसी घटना को कमजोरी न समझे और मजबूती से आगे बड़े। क्योकि सफल व्यक्ति वही है जो चुनौतियों को अवसर समझता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...