उड़ीसा सरकार ने किया कोरोना वैक्सीन का सही उपयोग – जितनी डोज वैक्सीन मिली उससे ज्यादा को लगाई गई।

Naveen Patnaik

जिस तरह से लोगो को वैक्सीन की कमी हो रही हैं कई राज्य ऐसे है जहाँ पर वैक्सीन के डोज जरुरत से कम पहुंच पाने की वजह से थोड़ा लेट हो गया वैक्सीनेशन में। लेकिन इन सब में जो खबर उड़ीसा से आ रही हैं वह सुन कर गर्व की बात है की जिस प्लानिंग और जिस तैयारी से वैक्सीन ड्राइव उड़ीसा में चलाया गया वह बाकी राज्यों में क्यों नहीं। आपको जानकर हैरानी होगी की जितने डोज वैक्सीन के उड़ीसा को दिए गए थे उससे ज्यादा लोगो को वहां पर वैक्सीन लगाया गया।

दरअसल उड़ीसा को जितनी कोरोना वैक्सीन की डोज केंद्र सरकार द्वारा दी गई थी। उसकी तुलना में ज्यादा लोगो को वैक्सीन का डोज लगाया गया हैं। जिसकी जानकारी खुद उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने अपने ट्वीट के माध्यम से दिया हैं। उन्होंने कहा की जितने वैक्सीन के डोज उड़ीसा को केंद्र सरकार द्वारा दिए गए थे उनका अच्छे से प्रयोग किया गया है और जितने कोरोना वैक्सीन की डोज हमें मिली थी उससे ज्यादा आबादी को हमने ये लगाई हैं।

बता दे की उड़ीसा सरकार के अनुसार केंद्र सरकार ने उन्हें 61,44,140 कोरोना वैक्सीन की डोज दी थी। इन डोजो का सही उपयोग करते हुए जीरो वेस्टेज के साथ 62,79,311 लोगों को लगाई गई हैं। जिनको ये वैक्सीन लगाई गई है उनकी उम्र 45 या उससे अधिक हैं।

इस प्रकार से बचाया कोरोना वैक्सीन के डोज को

कोरोना वैक्सीन की प्रत्येक 5 मिली की वायल में कुछ 10 डोज होते हैं। लेकिन एक समझदार नर्स एक वायल से 10 से अधिक लोगों को यह वैक्सीन लगा सकती हैं। आपको बता दे की इसमें 0.58 से 0.62 मिली ओवरफिल होता है। वायल में एक्स्ट्रा वैक्सीन लेना एक साधारण आदत हैं। जिसे ओवरफिल कहा जाता हैं। जो की स्वास्थ्य कर्मियों के लिए अच्छा होता है जिसकी मदद से वह सही मात्रा में खुराक दे सके। इसका मतलब यह है की अगर आप सही इस्तेमाल करे तो 5 मिली की वायल से आप 10 की जगह 11 या 13 लोगो को वैक्सीन लगा सकते हैं।

उड़ीसा के साथ ही केरल में भी वैक्सीन की एक-एक बून्द का सही से उपयोग किया जा रहा है। 1 मई की मिले केंद्र सरकार के कोविड वैक्सीन के डाटा के अनुसार देखा जाए तो केरल और आंध्रप्रदेश दो ऐसे राज्य है जहाँ पर कुल दी गई वैक्सीन डोज से अधिक खुराक का इस्तेमाल किया गया हैं।

कोरोना वैक्सीन के डोज का सही से उपयोग होने पर पीएम मोदी ने भी तारीफ की हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैक्सिन वेस्टेज को कम से कम रखने पर स्वास्थ्यकर्मियों को सराहाया और अन्य राज्य को भी ऐसा ही करने के लिए कहा हैं। बता दे की कई राज्य ऐसे है जहाँ पर कोरोना की दवाई को बर्बाद किया जा रहा हैं। सरकार के डेटा के अनुसार, देश में अब तक करीब 3 लाख डोज बर्बाद हो चुके हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार तमिलनाडु, असम, मणिपुर और हरियाणा यह ऐसे राज्य है जहाँ पर सबसे ज्यादा वैक्सीन बर्बाद हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top