कोरोना काल में इस शख्स ने की ऐसी शादी की हो गई सिर्फ 17 मिनट में पूरी – आप भी देखे।

UP Marriage

कोरोना काल के चलते लॉक डाउन चल रहा है और ऐसे में शादियों का सीजन तो पूरा ही खत्म होने आया है और जो लोग शादियां कर रहे है उनके वहां शादियों में रौनक ही नहीं है। शादियों का मजा तो तब ही आता है जब बहुत सारे मेहमान हो। लॉकडाउन के चलते पहले शादियों में सिर्फ 50 लोगो के आने की परमिशन मिली, लेकिन अब तो सारी शादियां ही निरस्त हो गई है।

UP News

आज हम आपको बताने जा रहे है की कैसे यूपी के शाहजहांपुर में एक दूल्हे ने मात्र 17 मिनट में शादी कर ली और इस शादी को देख कर सब हैरान रह गए। इसके साथ उसने अपने ससुराल वालो से दहेज़ में कुछ ऐसी चीज मांगी जिसे जान कर आप भी चौक जाएगे। तो आईये हम देखते है की कैसे हुई ये शादी।

आपकी जानकारी के लिए बता दे की 17 मिनट की इस शादी में ना ही कोई बैंडबाजा और ना ही कोई बारात और ना कोई घोडा बग्घी। यह शादी एक मंदिर में हुई। ये अनोखी शादी करने के पीछे उनका उद्देश्य दहेज़ की इस गन्दी प्रथा को जड़ से उखाड़ फेकना था। ये शख्स एक शिक्षण संस्थान चलाता है और भाजपा के महामंत्री और मिडिया कर्मी भी है।

उन्होंने गाँव के ही मंदिर में अपने घर वालो की उपस्तिथि में मंदिर में सात फेरे लिए और अपनी शादी निपटा ली। मात्र 17 मिनट में वह शादी करके फ्री हो गए। यह शादी पुरे गाँव में चर्चा में चल रही है। आपको जानकर हैरानी होगी की दूल्हे ने दहेज़ में रामायण की किताब मांगी। इन दोनों पति पत्नी का मानना है की हम ऐसी शादी करके ये सन्देश देना चाहते है की साधारण शादी कर फिजूल खर्च और दहेज़ से बचे।

इनकी इस शादी की तारीफे की जा रही है। उनका मानना है की दहेज़ प्रथा के कारण कई लोगो को परेशानियां उठानी पड़ती है। इसी कारण ये शादी बेमिसाल बनी हुई है।

वैसे देखा जाए तो यह बहुत ही अच्छा कदम हैं। उन परिवार वालों के लिए जहाँ पर लड़की के घर वाले इतने सक्षम न हो की वह अपनी बेटी को दहेज़ में ज्यादा कुछ दे पाए। लेकिन समाज और लोगो की बात न सुनना और बेटी को ससुराल में ताने न सुनना पड़े इसलिए एक बाप उधर ले कर अपनी बेटी की शादी में दहेज़ देता हैं। लेकिन ये दहेज़ की प्रथा बंद होना ही चाहिए। इस पर आपकी क्या राय है हमे जरूर बताना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top