लेटे हनुमान जी का मां गंगा करने आयी जलाभिषेक, चारों ओर गूंजे हर-हर महादेव के नारे।

uttar pradesh prayagraj hanumanji

प्रयागराज में स्थित हनुमान मंदिर में इस वर्ष आपको एक चमत्कार देखने को मिला है। यह पर इसने सभी को हैरान कर दिया है। यह पर लेटे हनुमंनजी मंदिर में मां गंगा ने पहली बार प्रवेश किया और गर्भगृह में स्थित हनुमान जी की मूर्ति को छूकर निकल गई। इस दृश्य को देखने वाले सभी लोग बहुत खुश हुए है। 

prayagraj hanumanji

इस वर्ष प्रयागराज में बारिश के दौरान माँ गंगा उफान पर है। जब यह अपनी ज्यादा बढ़ा तो यह हनुमानजी के मंदिर तक पहुंच गया। लोगों को इस बात की जानकारी लगी तो दूर-दूर से लोग इस भव्य नजारे के दर्शन करने के लिए मंदिर पहुंच गए। खबर के अनुसार बृहस्पतिवार की दोपहर में त्रिवेणी बांध के पास स्थित बड़े हनुमान मंदिर के गर्भगृह में गंगा नदी ने प्रवेश किया।

prayagraj hanumanji

जब यह मां गंगा का पानी गर्भगृह के अंदर आया। तब लोग ये नजारा देख बहुत खुश हो गए और तेज-तेज मां गंगा और हनुमान जी के नारे लगाने लगे। गंगा के मंदिर के अंदर आने के बाद अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि भी यहां पहुंचे। उन्होंने यह नजारा देख वैदिक मंत्रोच्चार के साथ मां गंगा की पूजा अर्चना की और आरती उतारी गयी। देखते ही देखते शाम तक मंदिर परिसर में कमर से ऊपर गंगा बहने लगी।

इस नजारे को देखने के लिए मंदिर में हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंच गए और मंदिर में भीड़ लग गई। इस समय प्रयागराज में गंगा के जलस्तर में वृद्धि लगातार जारी है। जिसके कारण गंगा का पानी मंदिर के अंदर भी आ गया। पानी ज्यादा बढ़ने पर यह लेटे हनुमानजी के मंदिर तक पहुंच गया। 

मंदिर को बंद किया गया

UP prayagraj hanumanji

जब गंगा का जलस्तर बढ़ता देखा गया, तब मंदिर को बंद किया गया। इस बात का अंदाजा लगा लिया था कि एक दो दिन में मंदिर में गंगाजी प्रवेश कर सकती हैं। लोग इस अद्भुत नजारे का भी इंतजार कर रहे थे। जब पानी कम हुआ तब मंदिर को खोला दिया गया। 

prayagraj hanumanji

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी द्वारा बताया गया की पावनी मां गंगा सर्वप्रथम मंदिर के मुख्य द्वार पर आकर ठहरती हैं। जिसके बाद उनकी आरती की जाती है। इसके बाद मां गंगा मंदिर के अंदर प्रवेश करती हैं। आज बृहस्पतिवार के दिन मां गंगा हनुमान जी का जलाभिषेक किया गया जो बहुत शुभ संकेत हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...