वफादारी क्या होती हैं इस कुत्ते से सिखों : मालकिन का करवाया अंतिम संस्कार – 5 दिन से कर रहा लौटने का इंतजार

Wafadar Kutta

आज हम आपको एक इमोस्शनल करने वाला किस्सा बताने जा रहे है। यह किस्सा सुन कर आप सब भावुक हो जायेंगे। दरअसल यह किस्सा बिहार के गया का है। यह किस्सा कोई इंसान से नहीं बल्कि एक कुत्ते से जुड़ा हुआ है। यहाँ एक कुत्ते ने अपनी मालकिन से इस तरह से वफादारी निभाई है की आप सोच भी नहीं पाएंगे की कोई जानवर किसी इंसान से इतना प्यार कर सकता हैं।

दरअसल हुआ यूँ की इस कुत्ते की मालकिन का निधन हो गया और यह कुत्ता अपनी मालकिन के अंतिम संस्कार में श्मशान घाट भी गया और उसके बाद जो इसने किया वो सब देख कर हैरान रह गए की आखिर कोई जानवर किसी इंसान के लिए कैसे कर सकता है। इस कुत्ते ने अपनी मालकिन की चिता जलने के बाद जहाँ इसकी मालकिन की चिता जलाई थी ये वही जा कर बैठ गया।

Wafadar kutta

उसके बाद यह कुत्ता चार से पांच दिन तक वही बैठा रहा और यह कुत्ते ने चार से पांच दिन तक कुछ खाया भी नहीं और बैठा रहा की शायद इसकी मालकिन वापस आजाये। कई लोगो ने इस कुत्ते को वहां से हटाने की कोशिश की, लेकिन ये कुत्ता वहां से नहीं हटा जिसने इसको हटाने की कोशिश की उसके ऊपर भौक कर ये उसको भगा देता।

दरअसल यह मामला गया जिले के शेरघाटी अनुमंडल के सत्संग नगर का है और यहाँ रहने वाले भगवान ठठेरा नामक इंसान की पत्नी की मौत्त हुई थी। इसकी शव यात्रा में इनके परिजनों के साथ इनका कुत्ता भी शामिल हुआ था और इस कुत्ते को इसकी मालकिन की मौत्त का ऐसा सदमा लगा की उसने खाना तक नहीं खाया और तो और वही बैठा रहा।

कुछ लोगो ने बताया की यह महिला उस कुत्ते का बहुत ध्यान रखती थी। और वह इस कुत्ते को खाना खिलाने के बाद ही खाना खाती थी। यही कारण है की इस कुत्ते को अपनी मालकिन के निधन का सदमा लग गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top