कभी खाए है पीले तरबूज़ (Yellow Watermelon)? देश के इस राज्य में हो रही है खेती – जानिए खासियत।

Yellow Watermelon

गर्मियों में तरबूज खाना आपको भी बहुत पसंद होगा। आपको बता दें की तरबूज हमारे शरीर में हाइड्रेट लेवल बनाये रखता है, गर्मियों में इसे खूब शोक से खाया भी जाता है यह हमारे शरीर में पानी के लेवल को बनाये रखने में मदद करता है। आपने हमेशा लाल तरबूज ही खाए होंगे, यह आपको भी पता है की हर तरबूज बहार से हरा और अंदर से लाल होता है, आज हम आपके से राज्य के बारे में बताने जा रहे है जहाँ तरबूज लाल रंग का नहीं बल्कि पीले रंग का उगाया जाता है। चलिए जानते है की कौनसा ऐसा राज्य है, जहाँ पीले रंग के तरबूज उगाए जाते है।

खेती कर के हैरान कर दिया है।

test of Yellow Water Melon

झारखण्ड के रामगढ में रहने वाले किसान राजेंद्र खेत में पीले तरबूजों की खेती की है। इस खेती से न केवल कृषि विभाग बल्कि आस पास रहने वाले लोगो को भी ऐसे खेती कर के हैरान कर दिया है। आपको बता दें की राजेंद्र ने बताया की यह तजवानी तरबूज है इसकी खेती भारत में नहीं की जाती है। राजेंद्र ने इस की खेती को सफल करके दिखाया है, जिससे लोग उनकी तारीफ करते रहे है। रामगढ़ के गोला प्रखंड, चोकरबेड़ा गांव का रहने वाला किसान राजेंद्र बेदिया के द्वारा तरबूज की खेती काफी मेहनत से की है। उन्होंने बताया की इस तरबूज के लिए बीज उन्हें ऑनलाइन मनवाने पड़े यह पिले तरबूज दिखने में सामान्य तरबूज के जैसे ही है जो की बहार से हरे और अंदर से पिले है।

लोगो को आकर्षित कर रहे है पीले तरबूज

Yellow Water Melon

जिन लोगो ने पहली बार पीले तरबूजों को देखा है उन इसे देखकर हैरान हो गए है। ऐसा ही नजरिया है गोला प्रखंड और झारखण्ड के आस पास वालो का है। इन विशेष प्रकार के तरबूजों को देखकर लोग आश्चर्यचकित है। यह तरबूज की हाई ब्रीड किस्मे है अंदर से पिले रंग का होता है जो खाने में बहुत ही स्वादिस्ट है उन्हें करीब 800 रूपये में 10 ग्राम बीज मिले थे। उन्होंने अपने खेत में 15 से भी ज्यादा तरबूज उगाए है।

रजेद्र ने कहा की मार्केट अच्छा हुआ तो वह 22000 से ज्यादा आमदनी कर लेंगे। यहाँ के किसान खेती करने में अग्रणी है उनके यहाँ से कुछ किसानो को आधुनिक खेती सिखने के लिए इजराइल भेजा गया है। गांव वाले भी चाहते है की वो भी इस खेती को अपनाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top
error: Please do hard work...